• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • कोरोना के मरीजों पर फंगल इफेक्शन की दवाएं बेअसर होने का खतरा बढ़ा: ICMR रिपोर्ट

कोरोना के मरीजों पर फंगल इफेक्शन की दवाएं बेअसर होने का खतरा बढ़ा: ICMR रिपोर्ट

इस रिपोर्ट को दिल्ली के 30 अलग-अलग सेंटर से डेटा लेने के बाद तैयार किया गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

इस रिपोर्ट को दिल्ली के 30 अलग-अलग सेंटर से डेटा लेने के बाद तैयार किया गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

Covid-19: आईसीएमआर के मुताबिक एंटीमाइक्रोबियल के ज्यादा इस्तेमाल से पैथोजेन बनते हैं, यानी उस बैक्टीरिया और फंगस का जन्म होता है जो दोबारा फंगल इंफेक्शन पैदा कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (COVID-19) के संक्रमण ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है. कोरोना से लड़ने के लिए वैक्सीन के अलावा कोई दूसरी ठोस दवा नहीं है. लिहाज़ा दुनिया भर के वैज्ञानिक मरीजों के बेहतर इलाज के लिए लगातार रिसर्च कर रहे हैं. इसी कड़ी में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के एक ताज़ा रिसर्च किया है. इसके मुताबिक एंटीमाइक्रोबियल (Antimicrobials) के ज़्यादा इस्तेमाल के चलते कोरोना के मरीज़ों में दोबोरा फंगल इंफेक्शन का खतरा बढ़ रहा है. बता दें कि शुक्रवार को एंटीमाइक्रोबियल रेसिस्टेंस रिसर्च एंड सर्विलांस नेटवर्क की नवीनतम सालाना रिपोर्ट जारी की गई है.

    इस रिपोर्ट में और क्या कुछ कहा गया है इसे जानने से पहले समझ लेते हैं कि आखिर एंटीमाइक्रोबियल है क्या? आपने एंटीबायोटिक का नाम सुना होगा. इसका इस्तेमाल बैक्टीरिया को खत्म करने के लिए किया जाता है. ठीक इसी तरह एंटीमाइक्रोबियल का इस्तेमाल इंसानों, जानवरों और पौधों में फंगल इंफेक्शन को रोकने के लिए किया जाता है.

    ये भी पढ़ें:- आज होगा तालिबान में नई सरकार का गठन, मुल्ला अब्दुल गनी बरादर होंगे प्रमुख

    ज्यादा इस्तेमाल का नुकसान
    आईसीएमआर के मुताबिक एंटीमाइक्रोबियल के ज्यादा इस्तेमाल से पैथोजेन बनते हैं, यानी उस बैक्टीरिया और फंगस का जन्म होता है जो दोबारा फंगल इंफेक्शन पैदा कर रहा है. आमतौर पर ये इंफेक्शन दवाई के इस्तेमाल के बाद भी जल्दी खत्म नहीं होते हैं. इसे विज्ञान कि भाषा में एंटी माइक्रोबियल रेजिस्टेंस कहा जाता है. इस पैथोजेन के चलते मरीजों में निमोनिया और युरिनरी ट्रैक इन्फेक्शन देखा जाता है. रिपोर्ट में इस बात को लेकर भी चिंता जताई गई है कि कोरोना के चलते फंगल इन्फेक्शन का खतरा भी बढ़ रहा है.


    कहां से लिया गया डेटा?
    इस रिपोर्ट को दिल्ली के 30 अलग-अलग सेंटर से डेटा लेने के बाद तैयार किया गया है. इस रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि नए पैथोजेन का कैसे इलाज किया जाए. आईसीएमआर में महामारी विज्ञान और संचारी रोग विभाग के एक वैज्ञानिक डॉ. कामिनी वालिया ने अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स से कहा, ‘ हमामारे पास एसिनेटोबैक्टर बॉमनी और क्लेबसिएला न्यूमोनिया जैसे रोगजनक भी हैं जो दवा प्रतिरोध बढ़ रहा है.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज