लाइव टीवी
Elec-widget

ओवैसी ने किया ट्वीट- जब सबरीमाला पर रिव्यू पीटिशन डाल सकते हैं तो अयोध्या पर क्यों नहीं

News18Hindi
Updated: November 26, 2019, 12:39 PM IST
ओवैसी ने किया ट्वीट- जब सबरीमाला पर रिव्यू पीटिशन डाल सकते हैं तो अयोध्या पर क्यों नहीं
एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने अयोध्या फैसले पर टिप्पणी.

असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने कहा कि जब सबरीमाला (Sabarimala) और एससी/एसटी जैसे मामलों में रिव्यू पिटिशन (Review petition) दायर हो सकती है तो अयोध्या ( Ayodhya) पर क्यों नहीं किया जा सकता.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2019, 12:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने एक बार फिर अयोध्या ( Ayodhya) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले पर टिप्पणी की है. ओवैसी ने कहा कि जब सबरीमाला और एससी/एसटी जैसे मामलों में रिव्यू पिटिशन दायर हो सकती है तो अयोध्या पर क्यों नहीं किया जा सकता.

असदुद्दीन ओवैसी ने ट्विटर पर लिखा, 'मैं कोई मशहूर मुस्लिम नहीं हूं, लेकिन मेरी दो बाते हैं-सुप्रीम कोर्ट के नियमों के मुताबिक रिव्यू पिटिशन एक उपाय है और मैं सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटिशन दायर करने वाले वादियों के अधिकार के साथ खड़ा हूं. दूसरा- अगर सबरीमाला और एससी/एसटी एक्ट मामले में रिव्यू पिटिशन से ध्रुवीकरण में मदद नहीं मिली तो इस मामले में भी ऐसा नहीं होना चाहिए.'

Asaduddin Owaisi, AIMIM, Sabarimala, Ayodhya, Supreme Court

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिए गए फैसले पर पहले भी असदुद्दीन ओवैसे कई बार टिप्पणी कर चुके हैं. उन्होंने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट सर्वोच्च है, लेकिन अचूक नहीं है. उन्होंने अयोध्या भूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिए गए फैसले को तथ्यों से ऊपर आस्था की एक जीत के तौर पर बताया था.

इसे भी पढ़ें :- Ayodhya Verdict : सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर बोले ओवैसी- नहीं चाहिए ज़मीन

ओवैसी ने 5 एकड़ जमीन का ऑफर किया था खारिज
असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि हमें हिंदुस्तान के संविधान पर पूरा भरोसा है. हम अपने अधिकार के लिए लड़ रहे थे. असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि हमें 5 एकड़ के ऑफर को खारिज कर देना चाहिए. ओवैसी ने कहा, ''कांग्रेस ने अपना असली रंग दिखा दिया है. कांग्रेस पार्टी के धोखेबाजों और पाखंडियों के लिए तो 1949 में मूर्तियां नहीं रखी गई होंगी. अगर राजीव गांधी द्वारा ताले नहीं खोले जाते, तो मस्जिद अब भी होती. नरसिम्हा राव ने अपने कर्तव्यों का निर्वहन किया होता जो अब भी मस्जिद होती.''
Loading...

इसे भी पढ़ें :- राम मंदिर फैसला: ओवैसी पर केस दर्ज, भावनाएं आहत करने का लगा आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 12:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...