होम /न्यूज /राष्ट्र /

कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड का इमरजेंसी में हो सकेगा इस्तेमाल? मंजूरी के लिए जल्द ही आवेदन करेगा सीरम इंस्टीट्यूट

कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड का इमरजेंसी में हो सकेगा इस्तेमाल? मंजूरी के लिए जल्द ही आवेदन करेगा सीरम इंस्टीट्यूट

पूनावाला ने वैक्सीन के वितरण को लेकर कहा कि वैक्सीन शुरू में भारत में वितरित की जाएगी (सांकेतिक तस्वीर)

पूनावाला ने वैक्सीन के वितरण को लेकर कहा कि वैक्सीन शुरू में भारत में वितरित की जाएगी (सांकेतिक तस्वीर)

Coronavirus Vaccine: सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन के लिए वैश्विक दवा कंपनी एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ भागीदारी की है.

    नई दिल्ली. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) के सीईओ अदार पूनावाल (Adar Poonawalla) ने शनिवार को कहा कि जल्द ही कोविशील्ड (Covishield) का इस्तेमाल आपातकालीन उपयोग के लिए किया जा सकता है. पूनावाला ने कहा कि उनका संस्थान अगले दो हफ्तों में कोविशील्ड के आपातकालीन उपयोग के लिए प्राधिकरण के पास आवेदन करने की प्रक्रिया में है. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया देश की टीका बनाने वाली प्रमुख कंपनी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कंपनी के पुणे स्थित संयंत्र का शनिवार को दौरा किया है. सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ ने कहा कि हमने पुणे में और अपने नए परिसर मंडारी में सबसे बड़ी महामारी के स्तर की सुविधा का निर्माण किया है. उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान बहुत सारी विस्तृत चर्चाओं के साथ इस सुविधा को भी उन्हें दिखाया गया था.

    सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ ने कहा कि टीके और टीके के उत्पादन पर अब प्रधानमंत्री बेहद जानकार हैं. हम हैरान थे कि उनके पहले से ही इसे लेकर काफी जानकारी थी. विभिन्न टीकों और उनकी चुनौतियों के बारे में विस्तार से चर्चा करने के अलावा, उन्हें ज्यादा कुछ समझाने की आवश्यकता ही नहीं हुई. पूनावाला ने वैक्सीन के वितरण को लेकर कहा कि वैक्सीन शुरू में भारत में वितरित की जाएगी, फिर हम COVAX देशों को देखेंगे जो मुख्य रूप से अफ्रीका में हैं. एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड द्वारा यूके और यूरोपीय बाजारों का ध्यान रखा जा रहा है. हमारी प्राथमिकता भारत और COVAX देश हैं.



    ये भी पढ़ें- छोटे कर्जदारों के लिए बड़ा झटका! केंद्र लोन मोरेटोरियम फिर बढ़ाने के है खिलाफ

    मौजूद टीम से भी प्रधानमंत्री ने की बातचीत
    वहीं कंपनी द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया कि मोदी ने सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया का शनिवार को दौरा किया और वहां मौजूद टीम के साथ बातचीत की, जिन्होंने प्रधानमंत्री को वैक्सीन विनिर्माण में आगे तेजी लाने को लेकर अभी तक हुई प्रगति के बारे में जानकारी दी.

    सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अदार पूनावाला ने कहा, ‘‘दुनियाभर में अब सभी बड़े स्तर पर और सस्ती कीमत पर वैक्सीन पाने के लिए भारत पर निर्भर हैं, क्योंकि सभी पहले ही जानते हैं कि 50-60 प्रतिशत से अधिक टीके भारत में बनाए जाते हैं.’’

    गौरतलब है कि भारत में कोविड-19 के टीके के विकास की समीक्षा के लिये तीन शहरों की यात्रा के अंतिम चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को पुणे पहुंचे थे. हैदराबाद से पुणे हवाई अड्डे पर शाम करीब साढ़े चार बजे पहुंचने के बाद मोदी हेलीकॉप्टर से सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के लिए रवाना हुए.

    सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन के लिए वैश्विक दवा कंपनी एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ भागीदारी की है.undefined

    Tags: Corona vaccine, Coronavirus vaccine, Covaxin, Serum Institute of India

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर