जर्मनी से भारत पहुचीं राहत की 'सांसें', कोविड से जंग में भरोसेमंद दोस्त आया साथ

जर्मनी से मेगा ऑक्सीजन प्लांट भारत पहुंचा.

जर्मनी से मेगा ऑक्सीजन प्लांट भारत पहुंचा.

कोरोना वायरस की दूसरी लहर के आगे भारत में सब बेबस नजर आ रहे हैं. इसी बीच ऑक्सीजन की कमी ने देश में भयावह स्थिति बना दी है. कोविड के चल रही जंग में जर्मनी भारत की मदद के लिए आगे आया है और एक मेगा ऑक्सीजन प्लांट भारत भिजवाया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोविड की दूसरी लहर के बाद देश में हालात इस कदर बिगड़ चुके हैं कि हर तरफ ऑक्सीजन और मेडिकल सप्लाई के लिए हाहाकार मचा हुआ है. राज्य सरकारें, केंद्र सरकार यहां तक कि न्यायपालिका की ओर से भी देश में ऑक्सीजन की आपूर्ति पर चिंता जाहिर की गई है. इसी बीच भारत की मदद के लिए जर्मनी सामने आया है. जर्मनी ने भारत में ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए एक मेगा ऑक्सीजन प्लांट भेजा है. जिससे हर दिन देश में 4 लाख लीटर ऑक्सीजन का प्रोडक्शन हो सकेगा. इस प्लांट को डीआरडीओ की ओर से चलाए जा रहे दिल्ली के सरदार वल्लभभाई पटेल कोविड अस्पताल में लगाया जाएगा. जर्मन ऑक्सीजन प्लांट के भारत पहुंचने के बाद भारत में जर्मनी के राजदूत वॉल्टर जे लिंडनर ने इसका जायजा भी लिया है.

जर्मन मिलिट्री एयरक्राफ्ट से दो हिस्सों में ऑक्सीजन प्लांट भारत पहुंचा. जिसे इंस्टॉल करने में दो दिन का वक्त लगने के बाद ये काम करना शुरू कर देगा. इसे इंस्टॉल करने के लिए भी जर्मनी से पैरामेडिकल स्टाफ भारत आया है. दिल्ली के सरदार वल्लभभाई पटेल कोविड अस्पताल में इंस्टॉलेशन के बाद ये काम करना शुरू कर देगा.

भरोसेमंद दोस्त को शुक्रिया

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने 6 मई को पहला हिस्सा भारत पहुंचने के बाद अपने ट्विटर अकाउंट से जर्मनी के साथ भारत की दो दशक की स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप का जिक्र करते हुए महामारी के काल में मिली जर्मनी की मदद पर आभार जताया है. जर्मनी ने भारत को मेगा मोबाइल ऑक्सीजन जनरेशन एंड फिलिंग प्लांट दिया है. जिससे भारत में चल रही ऑक्सीजन क्राइसिस में मदद मिल सकेगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज