• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • चिदंबरम ने तीन साल बाद तोड़ी चुप्‍पी, बोले- अफजल गुरु पर फैसला नहीं था सही

चिदंबरम ने तीन साल बाद तोड़ी चुप्‍पी, बोले- अफजल गुरु पर फैसला नहीं था सही

करीब तीन साल बाद अफजल गुरु की फांसी पर पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम ने अपनी चुप्‍पी तोड़ी है.

करीब तीन साल बाद अफजल गुरु की फांसी पर पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम ने अपनी चुप्‍पी तोड़ी है.

  • Pradesh18
  • Last Updated :
  • Share this:
    करीब तीन साल बाद अफजल गुरु की फांसी पर पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम ने अपनी चुप्‍पी तोड़ी है. चिदंबरम ने कहा कि यह संभव है कि संसद पर हमले को लेकर अफजल को लेकर 'ईमानदारी से राय' नहीं रखी गई. साथ ही इस केस पर 'सही तरीके से फैसला' नहीं लिया गया हो. ऐसे में 2001 में हुए संसद पर हमले को लेकर अफजल गुरु की भूमिका संदिग्‍ध हो जाती है.

    एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्‍यू में चिदंबरम ने कहा, 'मुझे ऐसा लगता है कि अफजल गुरु को लेकर 'ईमानदारी से राय' नहीं रखी गई. लेकिन सरकार का हिस्‍सा होने की वजह से मैं यह नहीं कह सकता हूं कि अदालत ने गलत फैसला सुनाया. दरसअल, यह सरकार थी जिसने अदालत में अफजल को आरोपी बनाया था. लेकिन व्‍यक्तिगत रूप से मेरा मानना है कि केस पर सही तरीके से फैसला नहीं लिया गया.'

    गौरतलब है कि यूपीए सरकार के दौरान अफजल गुरु को फांसी पर लटकाया गया था. 2013 में जिस वक्‍त अफजल को फांसी दी गई, उस समय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे थे. वहीं, यूपीए सरकार में चिदंबरम 2008 से 2012 तक गृह मंत्री रहे और इसके बाद उन्‍हें वित्‍त मंत्रालय का प्रभार दिया गया.

    चिदंबरम ने कहा, 'संसद हमले में अफजल गुरु की भूमिका को लेकर कई संदेह है. ऐसा कहना मुश्किल है कि वह संसद पर हमले की साजिश में शामिल ही था. यदि थोड़ी भी गुंजाइश बनती है तो उसे फिर बिना पैरोल के आजीवन कारावास दिया जा सकता था.'

    जेएनयू विवाद पर कांग्रेस के इस दिग्‍गज ने कहा, 'भाषण देना देशद्रोह नहीं है. यदि आपके भाषण से हिंसा को बढ़ावा मिलता है तो यह फिर देशद्रोह की श्रेणी में आता है.'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज