जवानों के कपड़ों-उपकरणों की खरीद में देरी पर PAC ने मांगी लद्दाख जाने की अनुमति

सैनिकों को कपड़ों और उपकरणों की कमी बताई गई है.
सैनिकों को कपड़ों और उपकरणों की कमी बताई गई है.

सीएजी (CAG) ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि सियाचिन और लद्दाख में तैनात भारतीय जवानों को सर्दी के दिनों में गर्म कपड़े और अन्‍य जरूरी वस्‍तुओं की बड़ी मात्रा में कमी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2020, 11:25 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. सियाचिन (Siachen) और लद्दाख (Ladakh) में विषम मौसम में तैनात भारतीय जवानों (Indian Army) तक जरूरी गर्म कपड़ों और उपकरणों को पहुंचाने के लिए उनकी खरीद में हुई देरी पर संसद की पब्लिक अकाउंट्स कमेटी (PAC) ने चिंता जाहिर की है. पीएसी के अध्‍यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने इस संबंध में लोकसभा स्‍पीकर ओम बिरला को एक पत्र लिखा है. इसमें उन्‍होंने एक पैनल को लद्दाख भेजे जाने की अनुमति मांगी है. लोकसभा का पैनल लद्दाख में सीमा पर तैनात सैनिकों से मुलाकात करके उनसे वहां की परिस्थिति को जानना और समझना चाहता है. दरअसल सीएजी ने अपनी रिपोर्ट में सैनिकों के लिए वहां गर्म कपड़े और जरूरी उपकरणों की खरीद में देरी होने की बात कही थी.

सीएजी ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि सियाचिन और लद्दाख में तैनात भारतीय जवानों को सर्दी के दिनों में गर्म कपड़े और अन्‍य जरूरी वस्‍तुओं की बड़ी मात्रा में कमी है. सीएजी ने इस कमी का कारण इन वस्‍तुओं की खरीद में देरी होना बताया था. वहीं चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत इस मामले में दो बार पीएसी के सामने पेश हो चुके हैं.

सीएजी ने अपनी रिपोर्ट में जानकारी दी थी कि वित्‍त वर्ष 2015-16 और 2017-18 के दौरान किए गए ऑडिट में पता चला है कि ठंडे और ऊंचे स्‍थानों पर तैनात जवानों को उनकी तैनाती के लिए जरूरी कपड़ों औश्र उपकरणों की खरीद में चार साल तक की देरी हुई थी.

इस कारण इन वस्‍तुओं की भारी कमी हो गई. इसका खामियाजा सैनिक झेल रहे हैं. इसी पर पीएसी ने लद्दाख जाने की अनुमति मांगी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज