अंतरराष्ट्रीय लताड़ के बाद भी नहीं सुधरा PAK, सोशल मीडिया के जरिए घाटी के युवाओं को कर रहा गुमराह

भाषा
Updated: September 6, 2019, 11:23 PM IST
अंतरराष्ट्रीय लताड़ के बाद भी नहीं सुधरा PAK, सोशल मीडिया के जरिए घाटी के युवाओं को कर रहा गुमराह
जम्मू और कश्मीर के पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह ने शुक्रवार को कहा कि पाकिस्तान राज्य में आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है और घाटी के युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहा है.

डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा, ‘पाकिस्तान जम्मू और कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है और बड़ी संख्या में आतंकवादियों को सीमा के पास लॉन्च पैड पर भेजा गया है.’

  • भाषा
  • Last Updated: September 6, 2019, 11:23 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू और कश्मीर (Jammu And Kashmir) के पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह (Dilbag Singh) ने शुक्रवार को आतंकवाद को लेकर बयान दिया है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान राज्य में आतंकवाद को अभी भी बढ़ावा दे रहा है. पाक  घाटी के युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहा है, जो एक बड़ी चुनौती है. हालांकि उन्होंने भरोसा जताया कि पुलिस और सैन्य बल इन चुनौतियों से निपट में सक्षम हैं.  क्योंकि वे पहले भी कई बार ऐसा कर चुके हैं.

जम्मू और कश्मीर पुलिस के महानिदेशक यहां पुलिस मुख्यालय में 'कॉलेज ऑफ एयर वारफेयर’ के प्रशिक्षु अधिकारियों के एक दल के साथ चर्चा कर रहे थे. सिंह ने कहा, ‘पाकिस्तान जम्मू और कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है और बड़ी संख्या में आतंकवादियों को सीमा के पास लॉन्च पैड पर भेजा गया है.’ साथ ही उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के द्वारा सोशल मीडिया का इस्तेमाल घाटी के युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के लिए किया जा रहा है, जो ‘हम सभी के लिए एक बड़ी चुनौती बनी हुई है.’

Jammu and Kashmir, Srinagar, Pakistan, terrorism, social media
बड़ी संख्या में आतंकवादियों को सीमा के पास लॉन्च पैड पर भेजा गया है.


सुरक्षा बल चुनौतियों से निपटने में सक्षम

उन्होंने विश्वास जताया कि पुलिस और सुरक्षा बल साथ मिलकर चुनौतियों से निपटने में सक्षम होंगे. डीजीपी ने यह भी कहा, ‘सभी सुरक्षा बलों के साथ पुलिस के रिश्ते बेहद सौहार्दपूर्ण हैं. राज्य में सुरक्षाबलों और पुलिस के बीच सटीक तालमेल है. इस बात की पुष्टि गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने की है.’ उन्होंने कहा कि राज्य के निवासियों के साथ भी पुलिस के अच्छे संबंध हैं, जिससे कानून और व्यवस्था बनाए रखने में मदद मिलती है.

भारतीय सेना आठ महीनों 139 आतंकवादी मारे
उल्लेखनीय है कि जम्मू और कश्मीर  में इस साल के पहले आठ महीनों के दौरान भारतीय सेना द्वारा 139 आतंकवादी मारे गए हैं. मार गए आतंकवादियों की इस संख्या में नियंत्रण रेखा के साथ-साथ राज्य के भीतरी इलाकों में सेना के साथ विभिन्न मुठभेड़ों में मारे गए आतंकवादियों की संख्या भी शामिल है. ये आंकड़े एक जनवरी से 29 अगस्त तक सेना द्वारा मारे गए आतंकवादियों की संख्या के बारे में हैं.
Loading...

वहीं दूसरी तरफ कश्मीर घाटी में आतंकवाद विरोधी अभियानों में विभिन्न रैंकों से जुड़े करीब 26 जवान शहीद हुए. वर्ष के प्रथम आठ महीनों के दौरान सबसे अधिक आठ जवान फरवरी में शहीद हुए. आधिकारिक सूत्रों के अनुसार एक अभियान के दौरान अगस्त के महीने में सेना द्वारा पांच आतंकवादियों को मार गिराया गया, जबकि एक को पकड़ लिया गया.

ये भी पढ़ें: 

मायावती का ऐलान: हरियाणा विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी बीएसपी

भारत में ये जानलेवा बीमारी फैलाने की साजिश रच रहा पाकिस्‍तान, राजस्‍थान सीमा पर अलर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 11:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...