कश्मीर के राजौरी में LoC पर पाक की गोलाबारी, पाक सेना ने शीर्ष जनरलों के साथ मीटिंग की

सीमा पर तैनात भारतीय सेना के जवानों की फाइल फोटो (फोटो-PTI)
सीमा पर तैनात भारतीय सेना के जवानों की फाइल फोटो (फोटो-PTI)

रक्षा प्रवक्ता (Defence Spokesman) ने बताया कि भारतीय सेना (Indian Army) ने भी इसका मुंहतोड़ जवाब दिया. अधिकारी ने बताया कि आखिरी समाचार मिलने तक दोनों तरफ से गोलीबारी (Shelling) जारी थी.

  • Share this:
जम्मू. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के राजौरी जिले (Rajouri District) में नियंत्रण रेखा से सटे विभिन्न अग्रिम इलाकों में पाकिस्तान की सेना (Pakistan Army) ने बुधवार को गोलाबारी की, इसके बाद भारतीय सेना (Indian Army) को भी जवाबी कार्रवाई करनी पड़ी. अधिकारियों (Officers) ने इसकी जानकारी दी.

रक्षा प्रवक्ता (Defence Spokesman) ने बताया कि करीब सवा बात बजे शाम पाकिस्तान की सेना ने संघर्ष विराम का उल्लंघन (ceasefire violation) कर उकसावे वाली कार्रवाई करते हुये राजौरी जिले के सुंदरबनी सेक्टर में नियंत्रण रेखा (Line of Control) से सटे अग्रिम चौकियों पर छोटे हथियारों से गोलीबारी की एवं मोर्टार दागे. उन्होंने बताया कि भारतीय सेना (Indian Army) ने भी इसका मुंहतोड़ जवाब दिया. अधिकारी ने बताया कि आखिरी समाचार मिलने तक दोनों तरफ से गोलीबारी जारी थी.

शीर्ष जनरलों को राष्ट्रीय और क्षेत्रीय सुरक्षा स्थितियों का ब्यौरा दिया गया: पाक सेना
वहीं पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद (Islamabad) में पाकिस्तानी सेना ने बुधवार को पाकिस्तान के शीर्ष जनरलों के साथ बैठक में उन्हें राष्ट्रीय और क्षेत्रीय सुरक्षा स्थितियों के बारे में जानकारी दी.
सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा (Qamar Javed Bajwa) ने रावलपिंडी (Rawalpindi) में कोर कमांडरों की एक बैठक की अध्यक्षता की. इस बैठक में राष्ट्रीय और क्षेत्रीय सुरक्षा स्थितियों पर जनरलों को जानकारी दी गई.



टिड्डियों के खतरे और पोलियो अभियान की जानकारी भी दी
पाक सेना (Pakistan Army) ने अपने बयान में कहा, ‘‘भारतीय आक्रोश को ध्यान में रखते हुए मंच ने भारतीय योजनाओं को विफल करने का संकल्प लिया है.’’

कमांडरों ने देश भर में हिंसा की घटनाओं (Incidents of Violence) में आ रही कमी पर भी संतोष व्यक्त किया. इसके अलावा पश्चिमी सीमा पर चल रही अफगान शांति प्रक्रिया के सकारात्मक प्रभावों और राष्ट्रीय संस्थाओं के माध्यम से सामान्यीकरण प्रक्रिया का समर्थन करने का संकल्प लिया गया.

फोरम ने उपलब्ध संसाधनों के अंतर्गत कोविड-19 से निपटने के लिए सरकार को सेना द्वारा दिए जा रहे समर्थन, टिड्डे के खतरे और पोलियो अभियान (Polio Campaign) पर भी चर्चा की.

यह भी पढ़ें: गलवान घाटी में झड़प के बाद थल सेना, नौसेना, वायु सेना ने बढ़ायी चौकसी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज