लाइव टीवी

CDS बिपिन रावत के बयान पर भड़का पाकिस्तान, भारत के लिए बोल डाली ये बड़ी बात

News18Hindi
Updated: January 18, 2020, 5:53 AM IST
CDS बिपिन रावत के बयान पर भड़का पाकिस्तान, भारत के लिए बोल डाली ये बड़ी बात
बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेन्स स्टाफ हैं

जनरल रावत ने कश्मीर में हालात का जिक्र करते हुए कहा था कि घाटी में 10 और 12 साल के लड़के-लड़कियों को कट्टरपंथी बनाया जा रहा है, जो चिंता का विषय है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2020, 5:53 AM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान ने प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत के उस बयान की निंदा की है, जिसमें उन्होंने कश्मीर घाटी में युवाओं को कट्टरपंथ से मुक्ति दिलाने के लिए शिविर चलाने का सुझाव दिया था.

नई दिल्ली में आयोजित रायसीना डायलॉग 2020 को संबोधित करते हुए जनरल रावत ने पाकिस्तान का स्पष्ट संदर्भ देते हुए कहा था कि आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले देशों को आतंक निरोधक संस्था एएफटीएफ की काली सूची में डालने तथा कूटनीतिक रूप से अलग थलग करने की जरूरत है. जनरल रावत ने कश्मीर में हालात का जिक्र करते हुए कहा था कि घाटी में 10 और 12 साल के लड़के-लड़कियों को कट्टरपंथी बनाया जा रहा है, जो चिंता का विषय है.

उन्होंने कहा, इन लोगों को धीरे-धीरे कट्टरपंथ से अलग किया जा सकता है. हालांकि, ऐसे लोग भी हैं जो पूरी तरह कट्टरपंथी हो चुके हैं. इन लोगों को अलग से कट्टरपंथ से मुक्ति दिलाने वाले शिविर में ले जाने की आवश्यकता है. जनरल रावत के बयान की निंदा करते हुए पाकिस्तान के विदेश विभाग ने कहा, 'यह टिप्पणी चरमपंथी मानसिकता और दिवालिया सोच को दर्शाती है जो स्पष्ट रूप से भारत के राजकीय संस्थानों में फैल चुकी है'.

इसे भी पढ़ें :- CDS बिपिन रावत के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- अखलाक और पहलू खान के हत्यारों को कट्टरपंथ से कौन करेगा दूर

आतंकियों की फंडिंग बंद हो
इससे पहले बिपिन रावत ने कहा था कि जब तक हम आतंकवाद को जड़ से खत्म नहीं करते, तब तक इससे परेशान होते रहेंगे. उन्होंने कहा, 'जब तक आतंकवाद को प्रायोजित किया जाएगा, तब तक ये खत्म नहीं हो सकता है. आतंकवादियों की फंडिंग रोकने की जरूरत है. इसके बाद ही आतंकवाद पर नियंत्रण किया जा सकेगा.'

इसे भी पढ़ें :- CDS बिपिन रावत का बड़ा बयान-अमेरिका की स्टाइल में आतंकवाद को करना होगा खत्म

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 5:53 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर