पाकिस्तान ने राजौरी और पुंछ जिले में की भारी गोलीबारी, एक जवान शहीद

पाकिस्तान ने राजौरी और पुंछ जिले में की भारी गोलीबारी, एक जवान शहीद
पाकिस्तान की ओर से लगातार किया जा रहा सीजफायर का उल्लंघन. भारतीय सेना दे रही जवाब. फोटो साभार: PTI

पाकिस्तान (Pakistan) जम्मू-कश्मीर में लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर पिछले कुछ दिनों से लगातार फायरिंग कर रहा है. भारतीय सेना (Indian Army) भी पाकिस्तान की फायरिंग का मुंहतोड़ जवाब दे रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 22, 2020, 11:31 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पाकिस्तान (Pakistan) की ओर से लगातार सीजफायर का उल्लंघन (Ceasefire violation) किया जा रहा है. सोमवार सुबह पाकिस्तान की ओर से जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के राजौरी और पुंछ जिले को निशाना बनाते हुए फायरिंग की गई. पाकिस्तान की ओर से राजौरी के नौशेरा सेक्टर और पुंछ के कृष्णा घाटी सेक्टर में फायरिंग की गई जिसमें एक जवान शहीद हो गया है जबकि एक अन्य जवान घायल हो गया. बता दें कि पाकिस्तान की सेना ने इस साल दो हजार से अधिक बार सीजफायर का उल्लंघन किया है.

जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर पिछले कुछ दिनों से लगातार फायरिंग कर रहा है. रक्षा प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान की सेना ने सोमवार को तड़के लगभग 3:30 बजे पुंछ के कृष्णाघाटी में सीजफायर का उल्लंघन किया. पाकिस्तान की ओर से पहले तो हल्की फायरिंग शुरू की गई बाद में कृष्णाघाटी सेक्टर मोर्टार दागे गए. इस हमले में एक जवान शहीद हो गया जबकि एक अन्य घायल है. घायल जवान को आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

गौरतलब है कि शनिवार को भी पाकिस्तान की तरफ से उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के दो इलाकों और राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में गोलाबारी की गई थी. बारामपूला में पाकिस्तानी फायरिंग में 6 लोग घायल हुए थे. बता दें कि सोमवार को शहीद हुए जवान से पहले 4 जून को राजौरी सेक्टर के सुदरबनी सेक्टर में हवलदार पी मथिआजगन, 10 जून को तरकुंडी सेक्टर में नायक सूबेदार गुरचरण सिंह, 14 जून को पुंछ जिले में 29 वर्षीय सिपाही लुंगंबुइ अबोनेमी भी पाकिस्तान की ओर से हो रही फायरिंग में शहीद हो चुके हैं.



इसे भी पढ़ें :- LoC के पार घुसपैठ की ताक में 300 से ज्यादा आतंकी, भीतरी क्षेत्र में 240 आतंकी सक्रिय
पाकिस्तान ने 2000 के ज्यादा बार किया सीजफायर का उल्लंघन
जम्मू-कश्मीर में इस साल 10 जून तक नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की ओर से 2027 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन हुआ, जो पिछले वर्ष इसी अवधि में हुए संघर्ष विराम उल्लंघन से करीब 69 फीसदी अधिक है. वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारियों का मानना है कि संघर्ष विराम उल्लंघनों में वृद्धि इसलिए हो रही है क्योंकि पाकिस्तान गोलाबारी की आड़ में नियंत्रण रेखा के पार से आतंकवादियों की घुसपैठ कराने के लिए प्रयत्नशील है. हालांकि, हर बार भारतीय सेना ने भी इसका माकूल जवाब दिया. इस दौरान कश्मीर में 100 आतंकी मारे. इनमें से कुछ आतंकी संगठनों के कमांडर भी शामिल थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading