लाइव टीवी

ट्रंप के भारत दौरे से पहले पाकिस्तान रच रहा है कश्मीर में आतंकी हमले की साज़िश

Sandeep Bol | News18Hindi
Updated: February 13, 2020, 11:51 PM IST
ट्रंप के भारत दौरे से पहले पाकिस्तान रच रहा है कश्मीर में आतंकी हमले की साज़िश
पाकिस्तान इस क़दर बौखलाया हुआ है वह कुछ भी कर गुज़रने को तैयार है.

अब ट्रंप (Donald trump) की भारत यात्रा के दौरान पाकिस्तान (Pakistan) की एक बड़ी साज़िश रचने का ख़ुलासा हुआ है. ख़ुफ़िया रिपोर्ट में ख़ुलासा हुआ है कि ट्रंप के भारत दौरे से पहले पाकिस्तान कश्मीर में बडे आतंकी हमलों को अंजाम देकर हालात ख़राब कराने की कोशिश में जुटा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 13, 2020, 11:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. एक साल पहले पाकिस्तान (Pakistan) समर्थित आतंकियो ने पुलवामा (Pulwama attack) में सुरक्षाबलों के क़ाफ़िले को निशाना बनाया था. इसके बाद उसका बदला भारत ने बालाकोट में आतंकी कैंपों (Balakot Air strike) को तबाह कर के लिया. तब से पाकिस्तान किसी भी बडी आतंकी घटना को अंजाम देने की हिम्मत नही जुटा सका है. कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद पाकिस्तान के प्रोपेगेंडा की भारत ने हवा निकल गई है. पाकिस्तान पूरी दुनिया में इस मसले को लेकर रोता रहा, लेकिन किसी ने उसकी एक नहीं सुनी.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald trump) के सामने भी इमरान ने अपना रोना रोया. लेकिन वहां से भी उन्हें कुछ हाथ नहीं लगा. हालांकि ट्रंप ने मध्यस्थता की बात जरूर कही, लेकिन लेकिन भारत के रुख को देखते हुए उन्हेांने भी अपने बयान के किनारा कर लिया. अब ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान पाकिस्तान की एक बड़ी साज़िश रचने का ख़ुलासा हुआ है. ख़ुफ़िया रिपोर्ट में ख़ुलासा हुआ है कि ट्रंप के भारत दौरे से पहले पाकिस्तान कश्मीर में बडे आतंकी हमलों को अंजाम देकर हालात ख़राब कराने की कोशिश में जुटा है. इसके लिए बाक़ायदा पीओके में आतंकी संगठनों की बैठक हुई थी, जिसमें आईएसआई और पाक सेना के अधिकारी भी थे मौजूद थे.

सूत्रों की माने तो इस बैठक में तीन रणनीति बनाई गईं. पहली, पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश और लश्कर आतंकी वारदात को अंजाम देंगे, लेकिन उनकी ज़िम्मेदारी हिजबुल मुजाहिदीन लेगा.

हिजबुल मुजाहिदीन को एक्टिव करने का मक़सद -

ऑपरेशन ऑल आउट के बाद से तमाम आतंकी संगठनों के कमांडर या तो ढेर कर दिए गए हैं या फिर जान बचाकर कही दुबके बैठे हैं. ऐसे में पाकिस्तान फिर से आतंकियो को एक्टिव कर रहा है.

हिजबुल ही क्यों लेगा जिम्मेदारी
दरअसल लश्कर और जैश के ज़्यादातर आतंकी पाकिस्तानी होते हैं और पाकिस्तान एफटीएएफ की बैठक से पहले कोई भी ऐसा काम करना नहीं चाहता, जिससे उस पर सवाल खड़े हों, इसलिएहिजबुल को आतंकी गतिविधि अंजाम देने का फ़रमान जारी किया है. यही नहीं जो भी आतंकी घटना लश्कर, जैश या दूसरे संगठन अंजाम देंगे उसकी ज़िम्मेदारी भी हिजबुल को लेने को कहा गया है, ताकि ट्रंप के दौरे के दौरान ये दिखाया जा सके कि अनुच्छेद 370 हटाने के बाद कश्मीरी नाराज हैं और वह आतंकी हमलों को अंजाम दे रहे हैं.

दूसरी रणनीति के तहत पाकिस्तान कश्मीर के लोगों के मन से खत्म हो रहे आतंकी संगठनों के डर को दोबारा से क़ायम करना चाहता है. वह इसके लिए शहरी इलाक़ों में पुलिस, सुरक्षाबलों और आम लोगों पर गोलीबारी और ग्रेनेड हमले की साजिश रच रहा है. आतंकियों के छिपे होने की जानकारी सुरक्षा एजेंसियों तक आसानी से पहुंच रही है, जिससे सुरक्षाबल आतंकियों को ढेर कर रहे हैं. आतंकियों की तीसरी साजिश पुलवामा हमले की तर्ज़ पर बड़े हमले को अंजाम देने की योजना है. उसकी ज़िम्मेदारी भी हिजबुल मुजाहिदीन ही लेगा.

बहरहाल पाकिस्तान इस क़दर बौखलाया हुआ है वह कुछ भी कर गुज़रने को तैयार है. पूरे साल उसकी कोई हरकत कामयाब नहीं हुई. घुसबैठ न के बराबर हुई. स्थानीय लोगों का समर्थन भी नहीं मिला. कश्मीर को हासिल करने का ख़्वाब टूटा. ऐसे में वह अमेरिकी राष्ट्रपति के सामने ये दिखाने में कोई कोर कसर नही छोड़ना चाहता कि कश्मीर में सबकुछ ठीक नहीं है.

यह भी पढ़ें...

दिल्ली चुनाव: जयराम रमेश की कांग्रेस को सलाह- अब अपना घमंड छोड़ना पड़ेगा...

कोलकाता में पानी के अंदर दौड़ेगी मेट्रो, रेल मंत्री पीयूष गोयल ने किया उद्घाटन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 10:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर