लाइव टीवी

पाकिस्तान ही नहीं अमेरिका भी मजहबी देश है, सिर्फ भारत धर्मनिरपेक्ष : राजनाथ सिंह

भाषा
Updated: January 22, 2020, 6:10 PM IST
पाकिस्तान ही नहीं अमेरिका भी मजहबी देश है, सिर्फ भारत धर्मनिरपेक्ष : राजनाथ सिंह
राजनाथ सिंह ने कहा है कि पाक, यहां तक अमेरिका भी धार्मिक राष्ट्र है लेकिन भारत धर्मनिरपेक्ष है (फाइल फोटो)

दिल्ली में गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित एनसीसी (NCC) के शिविर में रक्षा मंत्री ने कहा, ‘हम (भारत) कहते हैं कि हम धर्मों (Religions) के बीच भेदभाव नहीं करेंगे. हम ऐसा क्यों करें?

  • Share this:
नई दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh) ने बुधवार को कहा कि भारतीय मूल्यों (Indian values) में सभी धर्मों को बराबर माना गया है और यही वजह है कि हमारा देश धर्मनिरपेक्ष है और यह पाकिस्तान (Pakistan) की तरह थियोक्रैटिक (Theocratic- मजहबी) देश कभी नहीं बना.

दिल्ली में गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित एनसीसी (NCC) के शिविर में रक्षा मंत्री ने कहा, ‘हम (भारत) कहते हैं कि हम धर्मों (Religions) के बीच भेदभाव नहीं करेंगे. हम ऐसा क्यों करें? हमारा पड़ोसी देश तो यह ऐलान कर चुका है कि उसका एक धर्म है. उन्होंने खुद को मजहबी देश (Theocratic Nation) घोषित किया है. हमने ऐसी घोषणा नहीं की है.’

'हमारे साधु-संतों ने पूरी दुनिया में रहने वाले लोगों को भी परिवार बताया'
राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा, ‘यहां तक अमेरिका (America) भी मजहबी देश है. भारत एक मजहबी देश नहीं है. क्यों? क्योंकि हमारे साधु-संतों ने न केवल हमारी सीमाओं के भीतर रहने वाले लोगों को अपने परिवार का हिस्सा माना बल्कि पूरी दुनिया में रहने वाले लोगों को भी परिवार बताया.’ रक्षा मंत्री ने कहा, ‘उन्होंने (साधु-संतों ने) ‘वसुधैव कुटुंबकम’ की उक्ति दी जिसका मतलब है कि पूरा विश्व एक परिवार है. पूरे विश्व (World) में यह संदेश यहां से ही गया.’

'हमारे मूल्य कहते हैं, सभी धर्म बराबर'
राजनाथ सिंह ने ‘एनसीसी रिपब्लिक डे कैंप 2020’ के अवसर पर बुधवार को एनसीसी के कैडेट (NCC cadets) बैंड का अवलोकन किया और सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देखीं. उन्होंने एनसीसी के कैडेट को रक्षा मंत्री पदक और प्रशस्ति पत्र दिए.

उन्होंने भाषण में कहा, ‘हमारे भारतीय मूल्य कहते हैं कि सभी धर्म बराबर हैं. इसलिए भारत ने खुद को कभी भी मजहबी देश घोषित नहीं किया. हमने कभी नहीं कहा कि हमारा धर्म हिंदू (Hindu), सिख या बौद्ध होगा. हमने ऐसा कुछ भी कभी भी नहीं कहा. हम एक धर्मनिरपेक्ष देश (Secular country) हैं. यहां सभी धर्म के लोग रह सकते हैं.’
'विश्व के सबसे बड़े युवा संगठन NCC का हिस्सा होने पर होना चाहिए गर्व'
राजनाथ सिंह ने एनसीसी (NCC) के कैडेट की परेड और विभिन्न प्रस्तुतियों की सराहना की और कहा कि इससे भारतीय युवाओं में राष्ट्रीय गर्व का भावना बलवती होगी. उन्होंने कहा, ‘मैंने यहां आज जो देखा, उसकी तुलना मैं उससे करने की कोशिश कर रहा था जब मैं स्वयं एनसीसी का कैडेट था. मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा हूं कि वक्त बदल चुका है. अपने वक्त में, मैं इस तरह की सांस्कृतिक प्रस्तुति (Cultural presentation) की कल्पना भी नहीं कर सकता था.’ उन्होंने कहा कि विश्व के सबसे बड़े युवा संगठन (Largest youth organisation) एनसीसी का हिस्सा होने पर सभी लड़कों, लड़कियों को गर्व होना चाहिए.

यह भी पढ़ें:- कैबिनेट की बैठक में 37 साल इस पुरानी सरकारी कंपनी को बंद करने का फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 5:31 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर