Assembly Banner 2021

अर्जुन मार्क 1ए टैंक और एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग से डरा पाकिस्‍तान कर रहा ये काम

पाकिस्तान के PM इमरान खान (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के PM इमरान खान (फाइल फोटो)

खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान (Pakistan) अपने टैंक की फ्लीट के लिए 200 जैस्लोन एक्टिव प्रोटेक्शन सिस्टम (एपीएस) यूक्रेन से खरीदने की तैयारी कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2021, 2:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारत के शक्तिशाली अर्जुन मार्क 1ए टैंक (Arjun Mark 1A Tank) और एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग (Nag Missile) से पाकिस्‍तान (Pakistan) डरा हुआ है. आमने-सामने की लड़ाई में अर्जुन टैंक के फायर पावर और एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों से निपटने के लिए अब पाकिस्तान अपने टैंक में एक्टिव प्रोटेक्शन सिस्टम लगाने की तैयारी कर रहा है. भारतीय सेना स्वदेशी तकनीक से अपनी ताकत को बढ़ा रही है और इसी ताकत का डर अब पाकिस्तान को सता रहा है. भारतीय सेना में स्वदेशी शक्तिशाली अर्जुन टैंक के एडवांस वर्जन के डर ने पाकिस्तान को अपने टैंकों की हिफाजत के लिए एक्टिव प्रोटेक्शन सिस्टम की खरीद को तेज कर दिया है.

भारत एकसाथ दो दुश्मन से निपट रहा है. एक तरफ पाकिस्तान है तो दूसरी तरफ चीन है. दोनों की एक खास बात है कि इन दोनों पर भरोसा कभी नहीं किया जा सकता है. ऐसे में अपने पड़ोसियों को ध्यान में रखते हुए भारत ने अपनी ताकत में जबरदस्त इजाफा करना शुरू किया है. सरकार और सेना आत्मनिर्भर तरीके से इस दिशा में आगे बढ़ने के साथ ही विदेशों से भी जरूरी हथियार फास्ट ट्रैक प्रक्रिया के जरिये खरीद रही है.

इन्हीं सबको नजर में रखकर चीन और पाकिस्तान भी अपनी तैयारी कर रहे हैं. कई अत्याधुनिक मिसाइलों का सफल परिक्षण किया गया है. इसमें एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग भी शामिल है. पिछले हफ्ते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्जुन टैंक को भारतीय सेना को सौंपा था और इसी हफ्ते रक्षा खरीद परिषद ने 118 स्वदेशी टैंक अर्जुन मार्क 1A की खरीद को आधिकारिक मंज़ूरी दे दी. भारतीय सेना स्वदेशी तकनीक से अपनी ताकत को बढ़ा रहा है और इसी ताकत का डर अब पाकिस्तान को सता रहा है. भारतीय सेना में स्वदेशी टैंक अर्जुन के एडवांस वर्जन और एटीजीएम नाग मिसाइल के डर ने पाकिस्तान को अपने टैंकों की हिफाजत के लिए एक्टिव प्रोटेक्शन सिस्टम की खरीद को तेज कर दिया है.



खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान अपने टैंक की फ्लीट के लिए 200 जैस्लोन एक्टिव प्रोटेक्शन सिस्टम (एपीएस) यूक्रेन से खरीदने की तैयारी कर रहा है. एक्टिव प्रोटेक्शन सिस्टम (एपीएस) एक रडार बेस्ड सिस्टम है जो कि 1200 मीटर प्रति सेकंड तक की रफ़्तार से आने वाली किसी भी मिसाइल को टैंक में लगने से पहले ही नष्ट कर देती है. ये सिस्टम 150 से 180 डिग्री की कवरेज में आने वाले किसी भी मिसाइल या एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल को पहचान लेता है.

खुफिया रिपोर्ट की मानें तो पाकिस्तान ने यह सिस्टम बनाने वाली कंपनियों को जल्द से जल्द जंग के मैदान वाले हालातों को देखाते हुए एक टेक्निकल प्रेजेंटेशन देने को कहा है. यूक्रेन के डेमो साइट पर जैस्लोन एक्टिव प्रोटेक्शन सिस्टम (एपीएस) मौजूद है. डेमो ट्रायल के सफल होने के बाद इसी साल अगस्त में पाकिस्तान यूक्रेन से इस सिस्टम की खरीद का समझौता कर सकता है. सीरिया में तुर्की ने भी अपने टैंक को मिसाइल अटैक से बचाने के लिए इसी सिस्टम का इस्तेमाल किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज