Opinion: मोदी की आक्रामक रणनीति के कारण बौखलाया है पाकिस्तान

Anil Rai | News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 7:29 PM IST
Opinion: मोदी की आक्रामक रणनीति के कारण बौखलाया है पाकिस्तान
पीएम नरेंद्र मोदी की नई पॉलिसी से बौखलाया हुआ है पाकिस्तान

G-7 का सदस्य नहीं होते हुए भी जिस तरह भारत को जी-7 समिट में फ्रांस बुलाया गया, ये दुनिया के बताने के लिए काफी है कि वर्तमान परिवेश में भारत का महत्व कितना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2019, 7:29 PM IST
  • Share this:
पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) आजकल बौखलाए हुए हैं. हालात ये हैं कि इमरान खान अब परमाणु युद्ध की गीदड़भभकी भी देने से नहीं चूक रहे हैं. इमरान खान अपनी गीदड़भभकी से भारत (India) के साथ-साथ पूरी दुनिया को डराना चाहते हैं. इमरान खान का दावा है कि अगर भारत-पाकिस्तान में युद्ध हुआ तो उसका असर पूरी दुनिया पर पड़ेगा. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में आर्टिकल 370 और 35A हटाने के बाद पाकिस्तान ने पूरी दुनिया से मदद मांगी लेकिन भारत की आक्रामक विदेश नीति के कारण चीन को छोड़ दुनिया में किसी देश ने पाकिस्तान की इस गैर वाजिब मांग का समर्थन नहीं किया.

पहले दुनिया भर के मुस्लिम देश उसके बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में मुंह की खाने के बाद जी-7 (G-7) में शामिल देशों ने भारत को खुलकर समर्थन दिया. उसके बाद पाकिस्तान के पीएम इमरान खान की बौखलाहट साफ बता रही है कि अब उनके पास भारत का विरोध करने के लिए कोई जगह नहीं बची है. हालांकि पाकिस्तान की अंदरूनी राजनीति के कारण इमरान खान इस सच को मानने को तैयार नहीं हैं.

G-7 में दुनिया ने माना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लोहा
G-7 का सदस्य नहीं होते हुए भी जिस तरह भारत को जी-7 समिट में फ्रांस बुलाया गया, ये दुनिया को बताने के लिए काफी है कि वर्तमान परिवेश में भारत का महत्व कितना है. पिछले पांच सालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आक्रामक विदेश नीति का असर जी-7 में भी देखने को मिला. अधिवेशन में आए दुनिया के किसी भी देश ने जम्मू-कश्मीर या पाकिस्तान की बात नहीं कि और पूरे मामले को भारत के दावे के अनुसार द्विपक्षीय मामला माना. जी-7 समिट में ऐसी भी तस्वीरें आईं जब दुनिया चलाने वाले इन देशों के राष्ट्राध्यक्ष भारत के पीएम नरेंद्र मोदी के इर्द-गिर्द उनकी बातों को बहुत शिद्दत से सुनते और समझते नजर आए.

कश्मीर मुद्दे पर बैकफुट पर आए ट्रंप


जम्मू-कश्मीर मामले में बैकफुट पर आया अमेरिका
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात के समय जम्मू-कश्मीर पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात करने का दावा करने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जी-7 में बैकफुट पर दिखे. जी-7 में ट्रंप ने साफ-साफ कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत-पाकिस्तान का द्विपक्षीय मामला है और अमेरिका को पूरा भरोसा है कि दोनों देश इसे बातचीत से सुलझाने में सक्षम हैं. ट्रंप ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यशैली की तारीफ करते हुए साफ कहा कि मोदी जो करेंगे वो सबके लिए अच्छा होगा.
Loading...

पीएम मोदी ने दिया पूरी दुनिया को स्पष्ट संदेश
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस में जी-7 के मंच से दुनिया को एक बड़ा संदेश दिया. जम्मू-कश्मीर में 35ए और 370 हटाए जाने के बाद पहली बार किसी अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में पहुंचे पीएम मोदी ने दुनिया के सभी देशों को साफ संदेश दिया कि भारत-पाकिस्तान के बीच जो भी है वो आपसी मतभेद है और दुनिया के किसी देश के उसमें हस्तक्षेप करने की कोई जरूरत नहीं है. साथ ही जम्मू-कश्मीर से 370 हटाए जाने का मामला पूरी तरह भारत का अंदरूनी मामला है और पाकिस्तान को उसमें कोई हस्तक्षेप करने या विवाद खड़ा करने की जरूरत नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस कड़े रुख के बाद ये साफ हो गया है कि अब पाकिस्तान को जम्मू-कश्मीर के मामले पर दुनिया के किसी और देश का समर्थन नहीं मिलेगा.

ये भी पढ़ें: फिरोजशाह कोटला अब कहलाएगा अरुण जेटली क्रिकेट स्टेडियम, DDCA का बड़ा फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 6:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...