लाइव टीवी

पाकिस्‍तान ने शादाणी दरबार और कटासराज मंदिर की यात्रा के लिए भारतीय हिंदू श्रद्धालुओं को जारी किया वीजा

News18Hindi
Updated: December 12, 2019, 7:41 PM IST
पाकिस्‍तान ने शादाणी दरबार और कटासराज मंदिर की यात्रा के लिए भारतीय हिंदू श्रद्धालुओं को जारी किया वीजा
नई दिल्‍ली स्थित पाकिस्‍तानी उच्‍चायोग ने बताया कि भारतीय हिंदू श्रद्धालुओं को पाकिस्‍तान के धार्मिक स्‍थलों की यात्रा के लिए वीजा जारी किए गए.

नई दिल्‍ली स्थित पाकिस्‍तानी उच्‍चायोग (Pakistan High Commission) ने नवंबर और दिसंबर 2019 में भारतीय हिंदू श्रद्धालुओं (Indian Hindu Pilgrims) के दो समूहों को पाकिस्‍तान के धार्मिक स्‍थलों (Religious Sites) की यात्रा करने के लिए वीजा दिया. इनमें कुछ श्रद्धालु यात्रा कर वापस भारत (India) आ चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2019, 7:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. पाकिस्‍तानी उच्‍चायोग ने नवंबर और दिसंबर 2019 में भारत के हिंदू श्रद्धालुओं को पाकिस्‍तान के धार्मिक स्‍थलों की यात्रा के लिए वीजा जारी किया. नई दिल्‍ली स्थित पाकिस्‍तानी उच्‍चायोग (Pakistan High Commission) ने बताया कि सिंध प्रांत के सुक्‍कूर (Sukkur) में शिव अवतारी सतगुरु संत शादाराम साहिब की 311वीं जयंती के कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए गए 57 श्रद्धालुओं का जत्‍था पाकिस्‍तान से लौट चुका है. ये कार्यक्रम 24 नवंबर से 5 दिसंबर के बीच आयेाजित किया गया था. शादाणी दरबार (Shadani Darbar) मंदिर की स्‍थापना 300 साल पहले की गई थी.

88 श्रद्धालुओं को बुधवार को जारी कर दिया गया वीजा
शादाणी दरबार मंदिर की स्‍थापना संत शादाराम साहिब (Sant Shadaram Sahib) ने 1768 में की थी. उनका जन्‍म लाहौर (Lahore) में 1708 को हुआ था. ये तीर्थ दुनिया भर के श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र रहा है. पाकिस्‍तानी उच्‍चायोग ने बताया कि 88 श्रद्धालुओं के दूसरे समूह को बुधवार को वीजा जारी किया गया है. इन श्रद्धालुओं को 13 से 19 दिसंबर तक श्री कटासराज मंदिर (Shree Katas Raj Temples) के दर्शन के लिए वीजा दिया गया है. पंजाब प्रांत के चकवाल (Chakwal) जिले में स्थित इस मंदिर को किला कटास या कटास मंदिर भी कहा जाता है. इस मंदिर के चारों ओर मौजूद तालाब को लेकर हिंदुओं में बड़ी आस्‍था है.

'पाकिस्‍तान यात्रियों को हरसंभव सुविधा देने को प्रतिबद्ध'

धार्मिक यात्राओं को लेकर 1974 में पाकिस्तान-भारत के बीच तय हुए प्रोटोकॉल (Protocol) के तहत भारत के हिंदू (Hindu) और सिख (Sikh) तीर्थयात्री हर साल धार्मिक उत्सवों व आयोजनों के लिए पाक जाते रहे हैं. वहीं, पाकिस्तानी श्रद्धालु भी प्रोटोकॉल के तहत हर साल भारत की यात्रा करते हैं. बता दें कि पिछले महीने पाकिस्तान ने 3,800 से अधिक सिख तीर्थयात्रियों को वीजा दिया था. कुछ तीर्थयात्रियों ने 28 नवंबर को करतारपुर गलियारा (Kartarpur Corridor) शिलान्यास समारोह में हिस्सा लिया था. पाकिस्तान उच्चायोग ने कहा कि उनका देश आने वाले तीर्थयात्रियों को हरसंभव सुविधा देने के लिए प्रतिबद्ध है.

'तय प्रोटोकॉल पर काम कर रही है पाकिस्‍तानी सरकार'
पाकिस्तान उच्चायोग ने कहा, 'पीपल-टु-पीपल एक्सचेंज और धार्मिक यात्राओं को बढ़ावा देने के अपने प्रयासों के तहत पाकिस्तान सरकार की ओर से ये वीजा जारी किए गए हैं. इसके अलावा इस फैसले से यह भी पता चलता है कि पाकिस्तान सरकार पूरे भरोसे के साथ धार्मिक यात्राओं को लेकर तय हुए प्रोटोकॉल पर काम कर रही है.ये भी पढ़ें:

कांग्रेस सांसद का आरोप, 'कुत्ते सूंघकर चेक कर रहे करतारपुर साहिब का प्रसाद'

F-16 का इस्तेमाल करने पर अमेरिका ने पाकिस्तान को लगाई थी फटकार : रिपोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 7:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर