पाकिस्तान ने इस शर्त के साथ कुलभूषण जाधव को दिया कॉन्सुलर एक्सेस, भारत ने कही ये बात

पाकिस्तान ने कॉन्सुलर एक्सेस के लिए एक से ज़्यादा शर्तें रखी हैं. उनमें से एक है कि पाक का एक अधिकारी कॉन्सुलर एक्सेस के दौरान मौजूद रहेगा और भारत की ओर से केवल एक ही अधिकारी को मुलाकात की इजाज़त मिलेगी.

Shailendra Wangu | News18Hindi
Updated: August 1, 2019, 6:46 PM IST
पाकिस्तान ने इस शर्त के साथ कुलभूषण जाधव को दिया कॉन्सुलर एक्सेस, भारत ने कही ये बात
कई शर्तों के साथ पाक ने कुलभूषण जाधव को दिया कॉन्‍सुलर एक्‍सेस.
Shailendra Wangu | News18Hindi
Updated: August 1, 2019, 6:46 PM IST
पाकिस्‍तान विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को ऐलान किया कि कुलभूषण जाधव की कॉन्सुलर एक्सेस देने के लिए उसने भारत के सामने प्रस्ताव रखा है और इस मामले पर भारत के जवाब का इंतज़ार कर रहा है.
पाक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा कि भारत को शुक्रवार के लिए कॉन्सुलर कांसुलर एक्सेस का प्रस्ताव दिया गया. ICJ के फैसले के बाद पाक को झुकना पड़ा.

लेकिन न्यूज़18 को मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान ने कॉन्सुलर एक्सेस के लिए एक से ज़्यादा शर्तें रखी हैं. उनमें से एक है कि पाक का एक अधिकारी कॉन्सुलर एक्सेस के दौरान मौजूद रहेगा और भारत की ओर से केवल एक ही अधिकारी को मुलाकात की इजाज़त मिलेगी. यह कॉन्सुलर एक्सेस दोपहर 3 बजे देने का प्रस्ताव है. हालांकि बाकी शर्तों को लेकर जनकारी नहीं दी गयी. सूत्रों ने बताया कि भारत को कॉन्सुलर एक्सेस के प्रस्ताव तीन दिन पहले मिला.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ही ये बात

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि कुलभूषण जाधव के प्रस्ताव पर ICJ के फैसले के मद्देनजर विचार हो रहा है और पाक को राजनयिक माध्यम से जवाब दिया जाएगा. सूत्रों ने न्यूज़ 18 से कहा कि भारत सभी शर्तों पर विचार कर रहा है और अंतिम फैसला विचार करने के बाद ही लिया जाएगा. भारत चाहता है कि ICJ फैसले और वियना संधि के आधार पर ही कुलभूषण जाधव की पूर्ण कॉन्सुलर एक्सेस मिले.

जाधव को लाहौर से बाहर भेजा गया
पाकिस्तान की एजेंसियों ने जाधव को लाहौर से बाहर किसी अज्ञात स्थान पर भेज दिया है. इससे पहले उन्हें लाहौर में किसी सुरक्षित स्थान पर रखा गया था. ICJ का फैसला 17 जुलाई को आया था और 19 जुलाई को जाधव को लाहौर से बाहर भेजने का फैसला लिया गया.
Loading...

बेहतर हालात का दिखावा
माना जा रहा है कि कॉन्सुलर एक्सेस से पहले कुलभूषण जाधव को किसी सब जेल में रखा जा सकता है, जहां लाहौर से बेहतर हालात हों और पाक इस बात का दिखावा कर सके कि उसने जाधव को अच्छी सुविधाएं मुहैया कराई हैं. वहीं एक्सेस देने से पहले पाक की ये कोशिश भी होगी कि जाधव की सेहत में कुछ सुधार हो सके.

प्रियंका गांधी के इनकार के बाद मुश्किल में कांग्रेस, अब राष्ट्रीय अध्यक्ष का CWC की मीटिंग में होगा फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 1, 2019, 6:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...