अपना शहर चुनें

States

पाकिस्तान ने ISI के पूर्व चीफ दुर्रानी को बताया भारत का जासूस, कहा- RAW से है संबंध

असद दुर्रानी का नाम अक्सर भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व प्रमुख एएस दुल्लत के साथ जोड़ा जाता है. (Reuters)
असद दुर्रानी का नाम अक्सर भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व प्रमुख एएस दुल्लत के साथ जोड़ा जाता है. (Reuters)

पाकिस्तान की यह कार्रवाई समझने के लिए यह जानना ज़रूरी है कि पाक सरकार अपने ही पूर्व वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ क्यों है? दुर्रानी ने 2018 में भारत के पूर्व रॉ प्रमुख एएस दुलत के साथ एक किताब लिखी जिसका नाम Spy Chronicle है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 4:16 PM IST
  • Share this:
कराची. पाकिस्तान (Pakistan) की इमरान सरकार (Imran Khan) ने दावा किया है कि उनके पूर्व ISI प्रमुख असद दुर्रानी (Asad Durrani) भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी RAW के साथ संपर्क में थे. पाकिस्तान का यह दावा तब सामने आया जब पाकिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने इस्लामाबाद हाई कोर्ट में एक लिखित जवाब में कहा कि दुर्रानी 2008 से ही भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी और पाक विरोधी ताकतों के साथ संपर्क में हैं. न्यूज़18 के पास यह दस्तावेज़ मौजूद है. मामला था कि ISI के पूर्व मुखिया को एग्जिट कंट्रोल लिस्ट से हटाया जाए या नहीं.

पाकिस्तान की यह कार्रवाई समझने के लिए यह जानना ज़रूरी है कि पाक सरकार अपने ही पूर्व वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ क्यों है? दुर्रानी ने 2018 में भारत के पूर्व रॉ प्रमुख एएस दुलत के साथ एक किताब लिखी जिसका नाम Spy Chronicle है. इस किताब में दुर्रानी ने माना कि पाक सेना और ISI का हाथ कश्मीर में हिंसा के पीछे रहा है. दुर्रानी ने लिखा कि हुर्रियत के गठन के पीछे भी पाकिस्तान का ही हाथ है.

ये भी पढ़ेंः- चीन के साथ गतिरोध के बीच विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने दिए रिश्ते सुधारने के 8 मूल मंत्र



पाकिस्तान की सेना थी दुर्रानी से नाराज
दुर्रानी की इस किताब से पाक सेना बहुत नाराज़ हुई थी. पाक सेना ने दुर्रानी को तलब कर राष्ट्रीय सुरक्षा के बारे में लिखने से परहेज़ करने को कहा था. दुर्रानी की इस किताब के बाद उन्हें एग्जिट कंट्रोल लिस्ट पर डाल दिया गया था, ताकि वो देश छोड़कर न जा सकें.



अब इस लिस्ट में उनको बनाए रखने के लिए पाक सरकार ने दुर्रानी पर यह आरोप लगाते हुए कोर्ट में लिखित बयान दिया है. साफ है कि दुर्रानी ने जो खुलासे किए, उससे अपनी छवि बचाने के लिए पाक सरकार भारत की RAW एजेंसी को इस मामले में घसीट रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज