• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • गृह मंत्रालय ने संसद में बताया- पाकिस्तान ने मार्च से जून के बीच 6 बार किया सीजफायर का उल्लंघन

गृह मंत्रालय ने संसद में बताया- पाकिस्तान ने मार्च से जून के बीच 6 बार किया सीजफायर का उल्लंघन

गृह मंत्रालय ने मंगलवार को एक और लिखित बयान में कहा कि किसी भी राज्य को विभाजित करने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है. (फोटो साभार ANI)

गृह मंत्रालय ने मंगलवार को एक और लिखित बयान में कहा कि किसी भी राज्य को विभाजित करने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है. (फोटो साभार ANI)

India-Pakistan ceasefire: इसी साल 25 फरवरी को भारत और पाकिस्तान में सीजफायर को लेकर सहमति बनी थी. वहीं 2020 में 5133, 2019 में 3479 और 2018 में 2140 बार पाकिस्तान की ओर से सीजफायर का उल्लंघन किया गया.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत और पाकिस्तान के डीजीएमओ (DGMO) के बीच बनी सहमति के बाद अब भारत-पाक सीमा और एलओसी (LoC) पर शांति लौट आई है. गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने मंगलवार को एक लिखित जवाब में लोकसभा में इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि इस साल सीजफायर उल्लंघन (Ceasefire Violation) के मामलों में भारी गिरावट आई है. 25 फरवरी को भारत और पाकिस्तान (Pakistan) की सेनाओं के बीच बनी सहमति के बाद केवल 6 बार पाकिस्तान की ओर से सीजफायर उल्लंघन हुआ है. हालांकि साल की शुरुआत में जनवरी में 380 बार और फरवरी में 278 बार पाकिस्तान की ओर से जम्मू कश्मीर में युद्धविराम उल्लंघन किया गया.

सीजफायर पर बनी सहमति के बाद मार्च में 0, अप्रैल में एक बार, मई महीने में 3 बार और जून में दो बार पाकिस्तान ने युद्धविराम उल्लंघन किया. इस साल जून तक कुल 664 बार युद्धविराम उल्लंघन पाकिस्तान की ओर से किया गया. पिछले साढ़े 4 सालों में 2020 में सबसे अधिक युद्धविराम उल्लंघन हुआ है. बता दें कि सीमा पर पाकिस्तान की ओर से लगातार सीजफायर का उल्लंघन किया जाता रहा है. गृह मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार 2018 में जहां 2,140 बार युद्धविराम का उल्लंघन हुआ, तो वहीं 2020 में यह उल्लंघन करीब दोगुना होकर 5,133 बार किया गया. 2019 में पाकिस्तान की ओर से 3,479 बार गोलीबारी की गई.

इस साल मार्च में एक भी युद्धविराम उल्लंघन नहीं हुआ, वहीं पिछले साल मार्च में 454, 2019 में 275 और 2018 में मार्च में 203 बार युद्धविराम उल्लंघन हुआ. गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने लोकसभा (Nityanand Rai in Loksabha) में कहा कि नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान द्वारा गोलीबारी और युद्धविराम के उल्लंघन की घटनाओं के दौरान भारतीय सेना और बीएसएफ द्वारा तत्काल एवं प्रभावी जवाबी कार्रवाई की जाती है.

भारत और पाकिस्तान के डीजीएमओ के बीच हॉटलाइन पर हुई वार्ता के बाद 25 फरवरी को एक संयुक्त बयान जारी किया गया था, जिसमें भारत और पाकिस्तान दोनों ने 24 और 25 फरवरी 2021 की मध्यरात्रि से सभी समझौतों और नियंत्रण रेखा पर युद्धविराम का कड़ाई से पालन करने की सहमति जताई थी. गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने लोकसभा में कहा कि जम्मू कश्मीर की विभिन्न राजनीतिक पार्टियों ने संयुक्त बयान का स्वागत किया और विभिन्न देशों ने भी इस घटनाक्रम को एक महत्वपूर्ण और सकारात्मक कदम के रूप में स्वागत करते हुए बयान जारी किए.

‘सीमापार आतंकवाद के खिलाफ हो कार्रवाई’
भारत ने एक बार फिर यह साफ किया है कि भारत, पाकिस्तान से एक सामान्य पड़ोसी के रूप में संबंध चाहता है. साथ ही सभी मुद्दों को आतंकवाद और हिंसा से मुक्त वातावरण में द्विपक्षीय और शांतिपूर्ण ढंग से सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध है. भारत ने साफ किया यह दायित्व पाकिस्तान पर है कि वह विश्वसनीय, प्रमाणयोग्य कार्रवाई करके एक ऐसा अनुकूल माहौल पैदा करे कि पाकिस्तान के नियंत्रण वाले किसी भी क्षेत्र का उपयोग किसी भी तरीके से भारत के विरुद्ध सीमा पार से आतंकवाद के लिए ना किया जा सके.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन