पाकिस्तान ने 6 महीने में 2027 बार तोड़ा सीजफायर, सुरक्षाबलों ने 100 आतंकियों को किया ढेर

पाकिस्तान ने 6 महीने में 2027 बार तोड़ा सीजफायर, सुरक्षाबलों ने 100 आतंकियों को किया ढेर
चीन की इस हरकत से देशभर में रोष है. चीनी सामनों को बैन किए जाने की बात चल रही है. वहीं पूरा देश अपनी आर्मी के साथ खड़ा हो गया है

एक वरिष्ठ अधिकारी ने सेना द्वारा संकलित नए आंकड़े का हवाला देते हुए कहा, ‘इस साल 10 जून तक कुल 2027 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन (Ceasefire violation) हुआ और मार्च में सर्वाधिक 411 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया गया.’

  • Share this:
जम्मू. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में इस साल 10 जून तक नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की ओर से 2027 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन हुआ, जो पिछले वर्ष इसी अवधि में हुए संघर्ष विराम उल्लंघन (Ceasefire violation) से करीब 69 फीसदी अधिक है. वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारियों का मानना है कि संघर्ष विराम उल्लंघनों में वृद्धि इसलिए हो रही है क्योंकि पाकिस्तान गोलाबारी की आड़ में नियंत्रण रेखा (LoC) के पार से आतंकवादियों (Terrorist) की घुसपैठ कराने के लिए प्रयत्नशील है. हालांकि, हर बार भारतीय सेना ने भी इसका माकूल जवाब दिया. इस दौरान कश्मीर में 100 आतंकी मारे. इनमें से कुछ आतंकी संगठनों के कमांडर भी शामिल थे.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने सेना द्वारा संकलित नए आंकड़े का हवाला देते हुए कहा, ‘इस साल 10 जून तक कुल 2027 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन हुआ और मार्च में सर्वाधिक 411 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन (Ceasefire violation) किया गया.’ उन्होंने कहा कि साल 2019 में कुल 3168 संघर्ष विराम उल्लंघन हुए थे, जबकि 2018 में 1629 बार संघर्ष विराम उल्लंघन किया गया था. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी और गोलाबारी की जनवरी में 367, फरवरी में 366, अप्रैल में 387, मई में 382 तथा जून में पहले दस दिनों में 114 घटनाएं हुईं.

पिछले साल 926 बार किया गया था संघर्ष विराम उल्लंघन



अधिकारी के अनुसार वर्ष 2019 में 10 जून तक 926 बार संघर्ष विराम उल्लंघन हुआ, जिनमें जनवरी में 203, फरवरी में 215, मार्च में सर्वाधिक 267, अप्रैल में 234, मई में 221 तथा जून में पहले दस दिनों में 60 घटनाएं हुई थीं. उनके मुताबिक अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर को प्राप्त विशेष राज्य का दर्जा वापस लिये जाने और उसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के बाद पाकिस्तान औसतन रोजाना 11 बार संघर्ष विराम उल्लंघन कर रहा है.
पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने हाल ही में कहा था कि निकट अतीत में पाकिस्तानी गोलीबारी की आड़ में कुछ आतंकवादी घुसपैठ करने में कामयाब हुए हैं लेकिन नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर चौकस प्रहरियों ने घुसपैठ की ज्यादातर कोशिशें विफल कर दी हैं. उन्होंने कहा, ‘इस बार उन्होंने बर्फ पिघलने का इंतजार भी नहीं किया और आतंकवादियों का पहला जत्था मार्च में ही अपनी नापाक कोशिश में लग गया. रिपोर्टों के आकलन के मुताबिक नियंत्रण रेखा एवं अंतरराष्ट्रीय सीमा के पार कश्मीर में 150-250 आंतकवादी (घुसपैठ के लिए) प्रशिक्षण शिविरों में हैं.’

अधिकारी ने कहा कि इस बीच इस साल इस केंद्रशासित प्रदेश में विभिन्न मुठभेड़ों में कुल 100 आतंकवादी मारे गये हैं जिनमें विभिन्न संगठनों के दर्जन भर से अधिक स्वयंभू कमांडर भी हैं.

ये भी पढ़ें- 

लागोस से मुंबई आ रहा था 42 साल का शख्स, एयर इंडिया फ्लाइट में हो गई मौत

जानिए, डिप्रेशन में दिमाग के किस हिस्से पर क्या असर होता है
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading