जम्मू क्षेत्र में पिछले 8 महीनों में पाकिस्तान ने 3186 बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया: सरकार

जम्मू क्षेत्र में पिछले 8 महीनों में पाकिस्तान ने 3186 बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया: सरकार
पिछले 8 महीने में जम्मू में संघर्ष विराम उल्लंघन की कुल 3,186 घटनाएं हुई हैं (सांकेतिक फोटो)

रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि इस साल सात सितंबर तक जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में सेना के आठ जवान मारे गए और दो अन्य घायल हो गए. मंत्री ने कहा, "संघर्ष विराम उल्लंघन (Ceasefire Violation) के लिए उचित जवाबी कार्रवाई, भारतीय सेना एवं सीमा सुरक्षा बल (BSF) द्वारा की गई है."

  • भाषा
  • Last Updated: September 14, 2020, 9:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार (Government) ने कहा कि पिछले आठ महीनों में जम्मू क्षेत्र में नियंत्रण रेखा (LoC) के नजदीक पाकिस्तान (Pakistan) द्वारा संघर्ष विराम उल्लंघन (Ceasefire Violation) की कुल 3,186 घटनाएं हुई. रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद नाइक ने राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि इसके अलावा एक जनवरी से 31 अगस्त के बीच जम्मू क्षेत्र (Jammu area) में अंतराष्ट्रीय सीमा के पास सीमापार से गोलीबारी की 242 घटनायें हुई. उन्होंने कहा कि एक जनवरी से सात सितंबर के बीच जम्मू क्षेत्र में नियंत्रण रेखा (LoC) के नजदीक संघर्ष विराम उल्लंघन की कुल 3,186 घटनाएं हुई.

मंत्री ने कहा कि इस साल सात सितंबर तक जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में सेना के आठ जवान मारे गए और दो अन्य घायल हो गए. मंत्री ने कहा, "संघर्ष विराम उल्लंघन (Ceasefire Violation) के लिए उचित जवाबी कार्रवाई, भारतीय सेना एवं सीमा सुरक्षा बल (BSF) द्वारा की गई है." उन्होंने कहा कि युद्धविराम उल्लंघन के सभी मामले हॉटलाइन, फ्लैग मीटिंग और दोनों देशों के सैन्य संचालन महानिदेशकों के बीच वार्ता के माध्यम से पाकिस्तानी अधिकारियों के साथ उठाए गए हैं.

इस क्षेत्र में कोरोनो वायरस महामारी के बावजूद, पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर अकारण संघर्ष विराम उल्लंघन कर रहा है और कश्मीर में आतंकवादियों को घुसाने के प्रयास कर रहा है. सेना के अधिकारियों के अनुसार, पाकिस्तान स्थित आतंकवादियों को कश्मीर में घुसपैठ करने में मदद करने के लिए पाकिस्तानी सेना सुरक्षा कवच के रूप में सीमा पर गोलाबारी करती है.



पाकिस्तान की 'उल्टा चोर कोतवाल को डांटे' वाली कार्रवाई
वहीं पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर उल्टा चोर कोतवाल को डांटे कहावत को सच करते हुए भारतीय सैनिकों पर संघर्ष विराम समझौते के कथित उल्लंघन का आरोप लगाया और इस पर विरोध जताने के लिए सोमवार को भारतीय उच्चयोग के एक वरिष्ठ राजनयिक को सम्मन किया. विदेश विभाग ने एक बयान में कहा कि रविवार की रात नियंत्रण रेखा के पास हॉटस्प्रिंग सेक्टर में ‘‘बिना सोचे-समझे और बिना किसी उकसावे के की गयी गोलीबारी’’ में तीन असैन्य नागरिकों को गंभीर चोटें आयी हैं.

यह भी पढ़ें: दोबारा राज्यसभा के उपसभापति चुने गए NDA उम्मीदवार हरिवंश

बयान के अनुसार, भारतीय पक्ष से 2003, संघर्ष विराम समझौते का सम्मान करने, इसके साथ-साथ संघर्ष विराम समझौते के उल्लंघन के अन्य मामलों की जांच करने और नियंत्रण रेखा पर शांति बनाए रखने को कहा गया है. विदेश विभाग ने दावा किया है कि इस साल संघर्ष विराम समझौते के उल्लंघन की 2,245 घटनाएं हुई हैं जिनमें 18 लोग मारे गए हैं और 180 लोग घायल हुए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज