होम /न्यूज /राष्ट्र /पाकिस्तान ने फिर अलापा कश्मीर राग, कहा-आर्टिकल 370 पर भारत पलटे अपना फैसला, तब होगी बातचीत

पाकिस्तान ने फिर अलापा कश्मीर राग, कहा-आर्टिकल 370 पर भारत पलटे अपना फैसला, तब होगी बातचीत

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने मंगलवार को कहा कि उनका देश भारत के साथ तब तक बातचीत नहीं करेगा जब तक ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली/इस्लामाबाद. आर्थिक रूप से खस्ताहाल हो चुके पाकिस्तान (Pakistan) ने एक बार फिर कश्मीर राग (Kashmir Issue) अलापा है. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने मंगलवार को कहा कि उनका देश भारत के साथ तब तक बातचीत नहीं करेगा जब तक कश्मीर पर अपना निर्णय भारत पलट नहीं देता. इमरान खान ने यह बात आर्टिकल 370 (Article 370) समाप्ति के संदर्भ में कही है.

    भारत ने 5 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 को समाप्त कर दिया था. केंद्र सरकार ने राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बदल दिया था. अब इमरान खान ने एक बार फिर भारत सरकार को उसके निर्णय की याद दिलाते हुए कहा है-जब तक 5 अगस्त को लिया गया निर्णय वापस नहीं लिया जाता तब तक हम भारत के साथ कोई बातचीत नहीं करेंगे.

    " isDesktop="true" id="3585450" >

    इमरान खान से पहले विदेश मंत्री ने भी दिया कश्मीर पर बयान
    गौरतलब है कि मंगलवार को ही देश के विदेश मंत्री शाह महमूह कुरैशी ने भी कहा है कि भारत के साथ बातचीत तभी भी होगी जब कश्मीर का निर्णय बदला जाएगा. कुरैशी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का आंतरिक मुद्दा नहीं है. ये मामला संयुक्त राष्ट्र में है. इस पर सिक्योरिटी काउंसिल के कई रिजोल्यूशन हैं.

    भारत का स्टैंड रहा है साफ, कश्मीर हमारा अभिन्न अंग, उसकी परेशानियां भी हमारी
    बता दें भारत लगातार कहता रहा है कि जम्मू-कश्मीर का उसका अभिन्न अंग है और देश उसकी परेशानियों के समाधान में पूरी तरह सक्षम है. नई दिल्ली ने इस्लामाबाद को संदेश दिया था कि दोनों देशों के बीच सामान्य पड़ोसियों की तरह संबंध हो सकते हैं अगर आतंक और हिंसा के माहौल को बंद किया जाए. भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भी पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकवाद की पोल खोलकर रख दी थी.

    Tags: Article 370, Imran khan, Jammu and kashmir

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें