विशाखापट्टनम के पास पाकिस्तानी कैप्टन को पड़ा हार्ट अटैक, भारतीय कोस्ट गार्ड ने बचाई जान

विशाखापट्टनम के पास पाकिस्तानी कैप्टन को पड़ा हार्ट अटैक, भारतीय कोस्ट गार्ड ने बचाई जान
वाघा-अटारी बॉर्डर के जरिए पाक कैप्टन अपने देश वापस जा रहे हैं (फाइल फोटो)

सूत्रों ने यह जानकारी भी दी कि कैप्टन की बेटी (Captain's Daughter) ने भारतीय सरकार की मानवीय स्तर पर दी गई की सराहना की है और तत्काल आपातकालीन सेवाएं और चिकित्सा उपचार प्रदान करने के लिए डॉक्टरों के प्रयासों की सराहना की. कैप्टन बदर हसनैन अटारी-वाघा सीमा (Attari-Wagah border) के जरिए आज पाकिस्तान (Pakistan) वापस लौट रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 17, 2020, 8:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पुलवामा के आतंकी हमले (Pulwama Terror Attack) के बाद से भारत और पाकिस्तान (Pakistan) के संबंध सुधर नहीं सके हैं. बल्कि कश्मीर (Kashmir) को केंद्रशासित प्रदेश घोषित किये जाने के भारत सरकार (Indian Government) के फैसले पर पाकिस्तान की ओर से आई तल्ख प्रतिक्रिया के बाद ये अब तक के सबसे खराब दौर में से एक में है. लेकिन इसी बीच भारत की ओर से इंसानियत (humanity) की मिसाल देने वाली एक ऐसी घटना सामने आई है, जिसने पाकिस्तान में भी कई लोगों के दिलों में जगह बनाई है. दरअसल एक पोत (vessel) के पाकिस्तानी नागरिक चालक को भारतीय समुद्री इलाके में हार्ट अटैक पड़ा. भारतीय तटरक्षक दल (Indian Coast Guard) ने न सिर्फ उनके अलर्ट पर तुरंत पहुंचकर उनके जीवन की रक्षा की बल्कि अब वे पूरी तरह से स्वस्थ होकर अटारी-वाघा बॉर्डर (Attari- Wagha Border) के जरिए सड़क मार्ग से अपने घर वापस जा रहे हैं.

इस घटना के बारे में सूत्रों ने जानकारी दी है कि पाकिस्तानी नागरिक (Pakistani Citizen) और पोत एमवी हयाकल (MV Haykal) के कैप्टन बदर हसनैन को 13 जुलाई को तब दिल का दौरा (Heart Attack) पड़ा था, जब उनका जहाज गोपालपुर, ओडिशा (Odisha) के रास्ते में था. भारतीय तटरक्षक बल ने उसको तत्काल चिकित्सा सहायता मुहैया कराई और उन्हें विशाखापट्टनम (Visakhapatnam) के एक अस्पताल में भेज दिया.


यह भी पढ़ें: बंबई हाईकोर्ट ने कोविड-19 लॉकडाउन पर कहा-पुलिस की बर्बरता सिक्के का एक ही पहलू



सूत्रों ने यह जानकारी भी दी कि कैप्टन की बेटी ने भारतीय सरकार की मानवीय स्तर पर दी गई की सराहना की है और तत्काल आपातकालीन सेवाएं और चिकित्सा उपचार प्रदान करने के लिए डॉक्टरों के प्रयासों की सराहना की. कैप्टन बदर हसनैन अटारी-वाघा सीमा के जरिए आज पाकिस्तान वापस लौट रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज