Assembly Banner 2021

UNHRC में भारत ने कहा- पाकिस्तानी नेताओं ने माना आतंकवाद की फैक्ट्री बना उनका देश

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान.

Indian Statement in UNHRC: संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारत ने कहा कि पाकिस्तान अपनी सरजमीं पर हो रहे मानवाधिकार के हनन से ध्यान हटाने के लिए भारत की छवि खराब करने की कोशिश में लगा रहता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत ने संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के मंच से एक बार फिर पाकिस्तान  (Pakistan) को कड़ी फटकार लगाई है. भारत ने कहा कि पाकिस्तान लगातार अपनी धरती पर हो रहे मानवाधिकारों के उल्लंघन से ध्यान हटाने के लिए भारत की छवि खराब करने की कोशिशों में लगा है. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारत के यूएन स्थायी मिशन के प्रथम सचिव पवनकुमार बाधे (Pawankumar Badhe, First Secy, Permanent Mission of India to UN) ने कहा कि पाकिस्तान भारत के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण प्रचार के लिए इस महान मंच का गलत इस्तेमाल कर रहा है और परिषद का ध्यान इसकी अपनी जमीन पर हो रहे मानवाधिकार के उल्लंघन ने हटाने के लिए कर रहा है जो कि पहले जैसे ही बने हुए हैं.

बाधे ने कहा कि पाकिस्तानी नेताओं ने ये तथ्य स्वीकार किया है कि उनका देश आतंकवादियों का कारखाना बनता जा रहा है. पाकिस्तान उस आतंकवाद को दरकिनार कर रहा है जो कि मानवाधिकारों के हनन का सबसे घृणित रूप है और आतंकवाद का समर्थन करने वाले मानवाधिकारों का सबसे बुरा हनन करते हैं. बाधे ने आगे कहा कि वे लोग जो पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे गलत कामों के बारे में बोलते हैं उन्हें जबरन अगवा करवाना, गैर न्यायिक हत्याएं और मनमाने तरीके से उन्हें हिरासत में लेने का काम पाकिस्तान की सुरक्षा एजेंसियों द्वारा किया जा रहा है.

जम्मू-कश्मीर पर ओआईसी को बोलने का कोई अधिकार नहीं
बाधे ने जम्मू-कश्मीर को लेकर कहा कि हम इस्लामिक सहयोग संगठन के बयान में केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के संदर्भ को अस्वीकार करते हैं. संगठन को भारत का एक अभिन्न और अविभाज्य हिस्से जम्मू-कश्मीर से संबंधित मामलों पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है.



प्रथम सचिव ने आगे कहा कि यह खेद की बात है कि इस्लामिक सहयोग संगठन पाकिस्तान द्वारा भारत विरोधी दुष्प्रचार करने के लिए खुद को शोषित करने की अनुमति देता रहता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज