भारत ने UN में फिर उठाया पाकिस्तान में मानवाधिकार का मसला, बताया- फेल्ड स्टेट

भारत ने कहा है कि पाकिस्तान ने मानवाधिकार का मास्क पहना हुआ है.
भारत ने कहा है कि पाकिस्तान ने मानवाधिकार का मास्क पहना हुआ है.

UNHRC में भारत के फर्स्ट सेक्रेटरी विमर्श आर्यन (Vimarsh Aryan) ने कहा कि पाकिस्तान के भीतर अल्पसंख्यक समुदाय (Minority Community) को बुरी तरह प्रताड़ित किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी (Corona Pandemic) जैसे बुरे वक्त में हर व्यक्ति अपनी और अपने साथी की सुरक्षा के लिए मुंह पर मास्क लगा रहा है. लेकिन दुर्भाग्य से पाकिस्तान ने अलग तरह का मास्क पहना हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 9:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) में पाकिस्तान में मानवाधिकार हनन (Human Rights Violation) के मामले को उठाया है. पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर का मामला उठाए जाने पर मानवाधिकार परिषद में स्थाई भारतीय मिशन के फर्स्ट सेक्रेटरी विमर्श आर्यन ने कहा कि ये भारत का आंतरिक मसला है. उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान भारत के आंतरिक मसले में दखल देकर अंतरराष्ट्रीय बिरादरी का ध्यान भटकाना चाहता है जबकि खुद उसके यहां मानवाधिकार का बुरी तरह हनन हो रहा है.

विमर्श आर्यन ने कहा कि पाकिस्तान के भीतर अल्पसंख्यक समुदाय को बुरी तरह प्रताड़ित किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी जैसे वक्त में हर व्यक्ति अपनी और अपने साथी की सुरक्षा के लिए मुंह पर मास्क लगा रहा है. लेकिन दुर्भाग्य से पाकिस्तान ने अलग तरह का मास्क पहना हुआ है और वो खुद को मानवाधिकारों का प्रणेता बता रहा है. सच्चाई ये है कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय को प्रताड़ित किया जा रहा है.






उन्होंने कहा कि इस काउंसिल के मेंबर के तौर पर पाकिस्तान का एक मात्र ध्येय अंतरराष्ट्रीय बिरादरी का ध्यान अपने यहां हो रहे मानवाधिकार हनन के मामलों से भटकाना है. साथ ही पाकिस्तान द्वारा कब्जाए गए भारतीय क्षेत्र में भी मानवाधिकार हनन की घटनाएं आम हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज