लाइव टीवी

नाबालिग बच्चों पर अभिभावकों का पूरा हक नहीं: सुप्रीम कोर्ट

Utkarsh Anand | News18Hindi
Updated: May 30, 2018, 6:36 PM IST
नाबालिग बच्चों पर अभिभावकों का पूरा हक नहीं: सुप्रीम कोर्ट
बेंच ने कहा, ऐसे मामलों में बच्चे का भला सबसे जरूरी बात है.यह कैसे निर्धारित किया जा सकता है कि बच्चा भी अपनी इच्छा व्यक्त नहीं कर सकता है. एक बार जिसे अभिभावक नियुक्त कर दिया जाए, बच्चा उनकी कस्टडी में रहेगा. हम इस सिद्धांत के खिलाफ हैं.

बेंच ने कहा, ऐसे मामलों में बच्चे का भला सबसे जरूरी बात है.यह कैसे निर्धारित किया जा सकता है कि बच्चा भी अपनी इच्छा व्यक्त नहीं कर सकता है. एक बार जिसे अभिभावक नियुक्त कर दिया जाए, बच्चा उनकी कस्टडी में रहेगा. हम इस सिद्धांत के खिलाफ हैं.

  • Share this:
सुप्रीम कोर्ट ने उस फैसले को अस्वीकृत किया है, जिसमें कहा गया था कि एक नाबालिग बच्चे पर उसके अभिभावक का अधिकार है. फैसले में कहा गया था कि नाबालिग अपने हिसाब से किसी और के साथ रहने की इच्छा जाहिर नहीं कर सकता. जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने सुनवाई के दौरान यह पाया कि गुजरात हाईकोर्ट की ओर से किया गया फैसला गलत है.

एक हालिया सुनवाई के दौरान जजों ने कहा, यह सही नहीं हो सकता कि अगर एक बार किसी नाबालिग के लिए कोई गार्जियन अपॉइंट कर दिया जाए तो वह बच्चा अपने हिसाब से किसी और के साथ रहने की इच्छा नहीं जाहिर सकता है.

ये भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट समलैंगिकता मामले की सुनवाई को तैयार

पीठ ने कहा, ऐसे मामलों में बच्चे का भला सबसे जरूरी बात है.यह कैसे निर्धारित किया जा सकता है कि बच्चा अपनी इच्छा भी व्यक्त नहीं कर सकता है. एक बार जिसे अभिभावक नियुक्त कर दिया जाए, बच्चा उनकी कस्टडी में रहेगा. हम इस सिद्धांत के खिलाफ हैं.

सुप्रीम कोर्ट, गुजरात हाईकोर्ट के उस निर्णय पर प्रतिक्रिया दे रहा था, जिसमें यह कहा गया कि 18 साल से कम उम्र के नाबालिग के मामले में उससे जुड़े सभी फैसले लेने के अधिकार उसके माता-पिता या कानूनन नियुक्त किए गए अन्य किसी अभिभावक को है. हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा था, अगर नाबालिग स्वेच्छा से अपने अभिभावक के अलावा किसी और के साथ रहना चुनता है तो उसकी कस्टडी गार्जियन की इच्छा के बिना उसे नहीं दी जा सकती है.

ये भी पढ़ें: गूगल, फेसबुक, याहू, माइक्रोसॉफ्ट पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाया जुर्माना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 30, 2018, 6:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर