होम /न्यूज /राष्ट्र /'क्या बंगालियों के लिए मछली पकाएंगे?' बयान पर विवाद के बाद परेश रावल ने मांगी माफी

'क्या बंगालियों के लिए मछली पकाएंगे?' बयान पर विवाद के बाद परेश रावल ने मांगी माफी

रावल ने सफाई देते हुए ट्वीट में लिखा उनका मतलब 'अवैध बांग्लादेशियों' से था. (फाइल फोटो)

रावल ने सफाई देते हुए ट्वीट में लिखा उनका मतलब 'अवैध बांग्लादेशियों' से था. (फाइल फोटो)

गुजरात चुनाव: बंगालियों पर की गई अपनी विवादित टिप्पणी के बाद अभिनेता और पूर्व भाजपा सांसद परेश रावल ने माफी मांग ली है. ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

बंगालियों पर की गई अपनी विवादित टिप्पणी के बाद परेश रावल ने मांगी माफी.
रावल ने सफाई देते हुए ट्वीट में लिखा उनका मतलब 'अवैध बांग्लादेशियों' से था.
उन्होंने कहा था कि 'क्या बंगालियों के लिए मछली पकाएंगे?'

नई दिल्ली. गुजरात में विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान अभिनेता और पूर्व भाजपा सांसद परेश रावल बंगालियों पर अपने बयान के कारण विवाद में घिर गए हैं. एक रैली में दौरान उन्होंने कहा था कि गैस सिलेंडर के दाम बढ़ गए हैं, लेकिन उसकी कीमत नीचे आ जाएगी. लेकिन अगर रोहिंग्या और बांग्लादेशी आपके आसपास दिल्ली की तरह रहने लगे तो क्या होगा? गैस सिलेंडर का आप क्या करेंगे? बंगालियों के लिए मछली पकाएंगे? बयान को लेकर भारी विरोध का सामना करने के बाद उन्होंने आज माफी मांग ली है.

NDTV के अनुसार परेश रावल ने बीते मंगलवार को वलसाड में एक रैली के दौरान भाषण दिया था. बाद में भाषण का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था. इसके बाद परेश रावल को आलोचना का सामना करना पड़ा. उन्होंने अपने बयान में कहा था कि गुजरात महंगाई बर्दाश्त कर सकता है, लेकिन यह नहीं. उन्होंने कहा था कि जिस तरह से वे मौखिक गालियां देते हैं, उन्हें अपने मुंह पर डायपर पहनने की जरूरत है.

उनकी बंगालियों पर की गई टिप्पणी के बाद गुस्से भरे ट्वीट्स की झड़ी लग गई. इसके बाद आज सुबह परेश रावल ने एक माफीनामा लिखा. इस माफीनामे में उन्होंने दावा किया कि उनका मतलब ‘अवैध बांग्लादेशियों’ से था. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा बेशक मछली कोई मुद्दा नहीं है क्योंकि गुजराती मछली पकाते हैं और खाते हैं. लेकिन मुझे बंगाली से स्पष्ट करने दें कि मेरा मतलब अवैध बांग्लादेशियों और रोहिंग्या से है. लेकिन फिर भी अगर मैंने आपकी भावनाओं को ठेस पहुंचाई है तो मैं माफी मांगता हूं.

पढ़ें- दक्षिणी गुजरात में सबसे अधिक तो पोरबंदर में सबसे कम मतदान, जानें 2017 की तुलना में कितने कम पड़े वोट?

अपने भाषण के दौरान उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भी निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि वो यहां प्राइवेट प्लेन से आते और फिर रिक्शे में बैठकर दिखावा करते हैं. हमने एक्टिंग में सारी उम्र गुजार दी लेकिन ऐसा नौटंकीवाला हमने भी नहीं देखा है. उन्होंने हिंदुओं को खूब गालियां दीं. उन्होंने शाहीन बाग में बिरयानी परोसी थी.

Tags: Assembly election, Gujarat Assembly Election, Paresh rawal

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें