संसद के मानसून सत्र में भारत-चीन विवाद, फेसबुक, कोरोना महामारी जैसे मुद्दों को उठा सकती है कांग्रेस

संसद के मानसून सत्र में भारत-चीन विवाद, फेसबुक, कोरोना महामारी जैसे मुद्दों को उठा सकती है कांग्रेस
संसद के मानसून सत्र के आयोजन के लिए तैयारियां की जा रही हैं (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के दौरान आयोजित किये जा रहे संसद के मानसून सत्र (Monsoon Session) को लेकर तैयारियां तेजी से चल रही हैं. इन सत्र में कांग्रेस कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic), फेसबुक (Facebook), बेरोजगारी (Unemployment) और भारत-चीन तनाव (India-China Standoff) जैसे अहम मुद्दे उठा सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2020, 8:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. संसद (Parliament) का मानसून सत्र (Monsoon Session) जल्द ही शुरू होने वाला है. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के दौरान आयोजित किये जा रहे इस सत्र को लेकर विशेष तैयारियां भी की जा रही हैं. वहीं सूत्रों से जानकारी मिली है कि कोरोना संकट (Corona Crisis) में हो रहे इस सत्र में कांग्रेस (Congress) कई अहम मुद्दे उठा सकती है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कांग्रेस, कोरोना महामारी (Corona Pandemic), अर्थव्यवस्था, लद्दाख में भारत और चीन के बीच तनाव (India- China Standoff in Ladakh), बेरोजगारी (Unemployment) और हाल ही में हुए फेसबुक विवाद (Facebook Issue) जैसे मुद्दे उठा सकती है.

हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस सीमा पर तनाव को लेकर 19 जून को हुई सर्वदलीय बैठक में दिए प्रधानमंत्री के बयान को लेकर सफाई के साथ-साथ एक बार फिर से प्रधानमंत्री के बयान की मांग कर सकती है. कांग्रेस ने प्रधानमंत्री के स्वतंत्रता दिवस के भाषण में चीन का नाम न लेने को लेकर निशाना साधा था, उन्होंने कहा कि सरकार को लोगों को यह बताना चाहिए कि वह भारतीय क्षेत्रों पर कब्जा करने वाले चीनी बलों को कैसे वापस भेजेगी.

ये भी पढ़ें- प्रशांत भूषण ने SC से कहा: आवेश में नहीं किये ट्वीट, पढ़ें 10 बड़ी बातें



लद्दाख में कई महीनों से जारी है तनाव
बता दें पूर्वी लद्दाख में जारी सीमा विवाद को लेकर भारत और चीन के बीच कई दौर की सैन्य वार्ताएं हो चुकी हैं. स्थिति को बहाल करने के लिए भारत की ओर से कई कदम उठाए जा रहे हैं. भारत और चीन के बीच जून में विवाद बढ़ गया था जब गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे.

वहीं पिछले हफ्ते फेसबुक को लेकर सामने आई वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट को लेकर कांग्रेस की ओर से एक संयुक्त संसदीय समिति की जांच की मांग की जा सकती है. इस रिपोर्ट में दावा किया गया था कि फेसबुक के भारतीय कर्मचारियों ने भाजपा के नेताओं द्वारा अभद्र भाषा को संभालने में अपने नियमों की अनदेखी की. कांग्रेस ने फेसबुक और भाजपा के बीच एक "अपवित्र सांठगांठ" का आरोप लगाया है. इस संबंध में कांग्रेस ने फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग को पत्र भी लिखा था.

कोरोना संकट का भी उठ सकता है मुद्दा
इसके अलावा देश में लगातार बढ़ते कोरोना के मामले और महामारी को लेकर सरकार की ओर से की गई अनदेखी के मुद्दे को भी कांग्रेस सदन में उठा सकती है. कांग्रेस की ओर से लगातार ये बात कही जाती रही है कि जब राहुल गांधी ने फरवरी की शुरुआत में कोविड-19 का मुद्दा उठाया था तब उनकी बात की ओर किसी ने भी ध्यान नहीं दिया. अब देश कोरोना वायरस के मामलों में दुनिया में तीसरे नंबर पर आ चुका है जहां 20 लाख से ज्यादा मामले हो गए हैं. कांग्रेस महामारी के लिए लगाए गए लॉकडाउन को लेकर भी सरकार पर निशाना साधती रही है कि इसके चलते देश की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है और लोगों की नौकरियां भी गई हैं. ऐसे में कांग्रेस इस सारे मुद्दों को भी सदन के पटल पर रख सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज