संसद में मोदी सरकार पर हमलावर सोनिया गांधी, कहा- खतरे में है सरकारी कंपनियां

सोनिया ने कहा, 'रायबरेली में देश का पुराना रेल कारखाना है. कारखाने का निजीकरण क्यों किया जा रहा है, इससे मजदूरों का भविष्‍य संकट में है, हजारों मजदूर बेरोजगार हो जाएंगे. उन्‍होंने BSNL व MTNL के गिरते हालात पर भी सवाल उठाया.

News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 2:54 PM IST
संसद में मोदी सरकार पर हमलावर सोनिया गांधी, कहा- खतरे में है सरकारी कंपनियां
रायबरेली से सांसद सोनिया गांधी
News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 2:54 PM IST
लोकसभा की कार्यवाही के दौरान मंगलवार को यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र रायबरेली समेत रेलवे की 6 यूनिट्स के निजीकरण का मुद्दा उठाया. अपने संसदीय क्षेत्र रायबरेली का मुद्दा उठाया. सोनिया ने कहा कि रायबरेली की कोच फैक्ट्री का कंपनीकरण किया जा रहा है, जो निजीकरण की शुरुआत है. यह देश की अमूल्य संपत्ति को कौड़ियों के दाम चंद निजी हाथों के हवाले करने की पहली प्रक्रिया है और इससे हजारों लोग बेरोजगार होंगे.

रायबरेली से सांसद सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोलने के साथ ही देश के पहले प्रधानमंत्री को भी याद किया. उन्होंने कहा, 'देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू सार्वजनिक उद्योगों को देश के विकास की पूंजी मानते थे. बहुत ही दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि यह सरकार मजदूर और गरीब लोगों को भूलकर सिर्फ कुछ पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए काम कर रही है. मजदूरों का हक छीनकर कैसे उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाया जा रहा है, यह बात किसी से छुपी नहीं है.'

सोनिया गांधी ने कहा, 'असली चिंता तो इस बात की है सरकार ने इस प्रयोग के लिए रायबरेली के मॉडर्न कोच कारखाने को चुना है, जो कई कामयाब परियोजनाओं में से एक है. इस कोच फैक्ट्री को पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के नेतृत्व में तत्कालीन यूपीए सरकार ने देश के घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए यानी ‘मेक इन इंडिया’ के लिए शुरू किया था.’


मेक इन इंडिया को लेकर पीएम ने कही थी ये बात

गौरतलब है कि ‘मेक इन इंडिया’ नरेंद्र मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना है. मोदी ने हाल ही में लोकसभा में अपने संबोधन में कांग्रेस पर परोक्ष निशाना साधते हुए कहा था कि मेक इन इंडिया का मजाक उड़ाकर कुछ लोगों को भले ही रात को अच्छी नींद आ जाए, लेकिन इससे देश का भला नहीं हो पाएगा.

बहरहाल आज सोनिया गांधी ने शून्यकाल में ‘मेक इन इंडिया’ शब्द का भी उल्लेख किया और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल का भी जिक्र किया. सोनिया गांधी ने कहा कि इस कारखाने में आज बुनियादी क्षमता से ज्यादा उत्पादन होता है. यह भारतीय रेलवे का सबसे आधुनिक कारखाना है. सबसे अच्छी इकाइयों में से एक है. सबसे बेहतर और सस्ते कोच बनाने के लिए मशहूर है.

रेलवे बजट बंद करने पर भी उठाए सवाल
Loading...

सोनिया गांधी ने कहा कि किसी के लिए भी समझना मुश्किल है कि क्यों यह सरकार ऐसी औद्योगिक इकाई का निगमीकरण करना चाहती है. यूपीए चेयरपर्सन ने कहा कि इस सरकार ने संसद में अलग से रेल बजट पेश करने की परंपरा क्यों बंद कर दी? पता नहीं. उन्होंने कहा कि एचएएल, बीएसएनएल और एमटीएनएल के साथ क्या हो रहा है, किसी से छिपा नहीं है.

आखिर में सोनिया गांधी ने कहा 'सरकार से मेरी गुजारिश है कि रायबरेली की मॉडर्न कोच फैक्ट्री और सार्वजनिक क्षेत्र की सभी संपत्तियों की पूरी रक्षा करे. इन्हें चलाने वाले मजदूरों और कर्मचारियों व उनके परिवारों के प्रति आदर और सम्मान का भाव रखे.

कांग्रेस सांसदों ने मेज थपथपाकर किया स्वागत
बता दें कि जिस वक्त सोनिया गांधी सरकार पर उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने का आरोप लगा रही थीं, अन्य कांग्रेसी सांसद मेज थपथपाते नज़र आए. वहीं, जब लोकसभा स्पीकर ने उन्हें वक्त खत्म होने का इशारा किया तो सोनिया गांधी ने मुस्कुराते हुए कुछ और वक्त की मांग की. सोनिया का संबोधन खत्म होने पर कांग्रेस सांसदों ने मेज थपथपाकर स्वागत किया.

रेलवे ने तेज की प्राइवेटाइजेशन की प्रक्रिया
बता दें कि भारतीय रेलवे ने डीजल लोकोमोटिव वर्क्स (DLW) समेत अपने सभी प्रोडक्शन यूनिट्स के प्राइवेटाइजेशन की प्रक्रिया तेज कर दी है. इसके तहत देश के सभी 6 कोच फैक्ट्रियों को कॉर्पोरेशन (निगम) का रूप दिया जाएगा.

इन प्रोडक्शन यूनिट्स को बनेंगी निगम
>>डीजल लोकोमोटिव वर्क्स (वाराणसी)
>>चितरंजन लोकोमोटिव वर्क्स (आसनसोल)
>>इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (चेन्नई)
>>डीजल मॉडनाइजेशन वर्क्स (पटियाला)
>>व्हील एंड एक्सल प्लांट (बंगलुरु)
>>मॉर्डन कोच फैक्ट्री (रायबरेली)

(PTI इनपुट के साथ)

कांग्रेस की तलाश पूरी, सोनिया गांधी ने इस नेता को अध्यक्ष पद के लिए किया फोन!
First published: July 2, 2019, 1:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...