लाइव टीवी
Elec-widget

संसद के शीतकालीन सत्र में हंगामे के आसार, इन विधेयकों को पास कराना चाहेगी मोदी सरकार

News18Hindi
Updated: November 17, 2019, 2:19 PM IST
संसद के शीतकालीन सत्र में हंगामे के आसार, इन विधेयकों को पास कराना चाहेगी मोदी सरकार
संसद का शीतकालीन सत्र में हंगामे के आसार, इन विधेयकों को रहेगी नजर

नागरिकता (संशोधन) विधेयक को पारित कराने के अलावा इस सत्र के दौरान दो अहम अध्यादेशों को कानून में परिवर्तित कराना भी सरकार की योजना में शामिल है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2019, 2:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सोमवार से शुरू होने जा रहे संसद (Parliament) के शीतकालीन (Winter Session) सत्र में नागरिकता विधेयक (Citizenship Bill ) पेश करने की सरकार की योजना, जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) की स्थिति, आर्थिक सुस्ती और बेरोजगारी (Unemployment) जैसे मुद्दों पर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच टकराव होने की संभावना है.

नागरिकता (संशोधन) विधेयक को पारित कराने के अलावा इस सत्र के दौरान दो अहम अध्यादेशों को कानून में परिवर्तित कराना भी सरकार की योजना में शामिल है. आयकर अधिनियम, 1961 और वित्त अधिनियम, 2019 में संशोधन को प्रभावी बनाने के लिए सितंबर में एक अध्यादेश जारी किया गया था, जिसका उद्देश्य नई एवं घरेलू विनिर्माण कंपनियों के लिए कॉरपोरेट कर की दर में कमी लाकर आर्थिक सुस्ती को रोकना और विकास को बढ़ावा देना है.

वहीं दूसरा अध्यादेश भी सितंबर में जारी किया गया था, जिसमें ई-सिगरेट और इसी तरह के उत्पाद की बिक्री, निर्माण एवं भंडारण पर प्रतिबंध लगाया गया है. लोकसभा चुनाव में मिले अपार जनादेश के साथ सत्ता में वापसी करने वाली भाजपा नीत राजग सरकार का यह इस कार्यकाल में दूसरा संसद सत्र है.

इसे भी पढ़ें :- शीतकालीन सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक में विपक्ष की मांग- बेरोजगारी, मंदी और प्रदूषण पर हो चर्चा

संसद सत्र का पहला सत्र काफी बेहतर था
संसद का पहला सत्र काफी बेहतर रहा था. इस सत्र के दौरान तीन तलाक की प्रथा को दंडनीय बनाने, राष्ट्रीय जांच एजेंसी को और अधिक शक्तियां देने जैसे कई अहम विधेयक दोनों सदनों में पारित हुए. इस दौरान जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे को हटाने और इसे दो केंद्रशासित क्षेत्रों-जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख में विभाजित करने का प्रस्ताव भी दोनों सदनों में पारित हुआ.

इसे भी पढ़ें :- शीतकालीन सत्र से पहले नागरिकता संशोधन विधेयक का असम में विरोध प्रदर्शन शुरू
Loading...

नागरिकता (संशोधन) विधेयक पास कराने पर रहेगा जोर
सोमवार से शुरू हो रहे शीतकालीन सत्र में सरकार विवादास्पद नागरिकता (संशोधन) विधेयक को पारित कराने की तैयारी में है जो भाजपा का अहम मुद्दा है. इसका लक्ष्य पड़ोसी देशों से आए गैर-मुस्लिम प्रवासियों को नागरिकता प्रदान करना है.आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सरकार ने सत्र के दौरान अपनी कार्यसूची में इस विधेयक को सूचीबद्ध किया है. सरकार ने इस विधेयक को अपने पहले कार्यकाल में भी पेश किया था लेकिन विपक्षी दलों के विरोध के चलते इसे पारित नहीं कराया जा सका. विपक्ष ने इस विधेयक की आलोचना करते हुए इसे धार्मिक आधार पर भेदभावपूर्ण बताया है. संसद का यह शीतकालीन सत्र 13 दिसंबर तक चलेगा.

इसे भी पढ़ें :- महाराष्ट्र का महाभारत: संसद में भी दिखेगी दूरी, अब विपक्ष में बैठेंगे शिवसेना के सांसद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 17, 2019, 2:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...