Assembly Banner 2021

संसदीय समिति फेसबुक मुद्दे पर बुधवार को करेगी चर्चा

कांग्रेस ने फेसबुक एवं भाजपा के बीच ‘साठगांठ’ होने का आरोप फिर लगाया था (सांकेतिक फोटो)

कांग्रेस ने फेसबुक एवं भाजपा के बीच ‘साठगांठ’ होने का आरोप फिर लगाया था (सांकेतिक फोटो)

कांग्रेस (Congress) ने कुछ अंतरराष्ट्रीय मीडिया समूहों की खबरों का हवाला देते हुए मंगलवार को फेसबुक (Facebook) एवं भाजपा के बीच ‘साठगांठ’ होने का आरोप फिर लगाया और दावा किया कि भारत के लोकतंत्र एवं सामाजिक सद्भाव (Democracy and Social Harmony) पर किया गया ‘हमला’ बेनकाब हुआ है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 1, 2020, 10:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. फेसबुक मुद्दे (Facebook Issue) पर राजनीतिक घमासान के बीच संसद की एक समिति बुधवार को बैठक करेगी और इस सोशल मीडिया मंच (Social media platform) के कथित दुरुपयोग को लेकर चर्चा करेगी. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर (Senior Congress leader Shashi Tharoor) की अध्यक्षता वाली सूचना प्रौद्योगिकी मामलों की स्थायी समिति (Standing Committee on Information Technology Affairs) ने फेसबुक के प्रतिनिधियों को तलब किया है और यह नागरिक अधिकारों (Civil Rights) की रक्षा के विषय तथा सोशल मीडिया मंच के कथित दुरुपयोग पर उनके विचार सुनेगी. समिति ने इस मुद्दे पर इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (Ministry of Electronics and Information Technology) के प्रतिनिधियों को भी तलब किया है.

समिति की बैठक मंगलवार को होनी थी, लेकिन यह पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Former President Pranab Mukherjee) के निधन के कारण राष्ट्रीय शोक के चलते बुधवार के लिए टाल दी गई. कांग्रेस (Congress) ने कुछ अंतरराष्ट्रीय मीडिया समूहों की खबरों का हवाला देते हुए मंगलवार को फेसबुक (Facebook) एवं भाजपा के बीच ‘साठगांठ’ होने का आरोप फिर लगाया और दावा किया कि भारत के लोकतंत्र एवं सामाजिक सद्भाव (Democracy and Social Harmony) पर किया गया ‘हमला’ बेनकाब हुआ है. मुख्य विपक्षी दल (Main opposition party) ने यह भी कहा कि इस पूरे प्रकरण की तत्काल जांच होनी चाहिए और दोषी पाए जाने पर लोगों को दंडित किया जाना चाहिए.

राहुल गांधी ने अमेरिकी अखबार की खबर ट्विटर पर साझा कर सरकार पर निशाना साधा
पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अमेरिकी अखबार ‘वॉल स्ट्रीट जर्नल’ की हालिया खबर को ट्विटर पर साझा करते हुए सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने दावा किया, ‘‘अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने भारत के लोकतंत्र और सामाजिक सद्भाव पर फेसबुक एवं व्हाट्सऐप के खुलेआम हमले को बेनकाब कर दिया है।’’
कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘किसी भी विदेशी कंपनी को भारत के आंतरिक मामलों में दखल की अनुमति नहीं दी जा सकती. उनकी तत्काल जांच होनी चाहिए और अगर वे दोषी पाए जाते हैं तो उन्हें दंडित किया जाना चाहिए.’’ थरूर ने इस मुद्दे पर कहा कि समिति ‘वॉल स्ट्रीट जर्नल’ की हालिया खबर के बारे में फेसबुक से सुनना चाहेगी.



IT मंत्री ने फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग को पत्र लिखा
वहीं, सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग को पत्र लिखकर कहा कि फेसबुक के कर्मचारी चुनावों में लगातार हार का सामना करनेवाले लोगों तथा प्रधानमंत्री और वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों को ‘‘गाली’’ देने वालों का समर्थन कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: LAC पर झड़प के बाद तनाव कम करने की कोशिश, भारत-चीन के बीच सैन्य बातचीत

भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने थरूर के बयान को लेकर आरोप लगाया कि कांग्रेस अपने राजनीतिक एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए फेसबुक का इस्तेमाल कर रही है. उन्होंने थरूर को समिति के अध्यक्ष पद से हटाने की मांग की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज