8 दिन बाद वायुसेना को मिला AN-32 का मलबा, 13 लोग थे सवार

भारतीय वायुसेना का विमान एएन-32 जोरहाट एयरबेस से 3 जून को उड़ान भरने के बाद लापता हो गया था. विमान में 13 लोग सवार थे.

News18Hindi
Updated: June 12, 2019, 12:46 PM IST
News18Hindi
Updated: June 12, 2019, 12:46 PM IST
असम के जोरहाट हवाई अड्डे से उड़ान भरने वाले AN-32 के टुकड़े मिले हैं. समाचार एजेंसी ANI के अनुसार विमान के कुछ हिस्सों का मलबा अरुणाचल प्रदेश के लीपो शहर में मिला है. ये जगह विमान के उड़ान वाली जगह  से 15-20 किलोमीटर उत्तर में है. जमीन से 12 हजार फुट की ऊंचाई पर मलबा मिला है. विमान के बाकी हिस्सों की तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है. यह विमान 3 जून असम के जोरहाट से उड़ान भरा था और लापता हो गया था. विमान में 8 क्रू मेंबर समेत 13 लोग सवार थे.

वायुसेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जिस इलाके में खोज की जा रही थी, वहां IAF Mi-17 हेलीकॉप्टर  द्वारा अनुमानित AN-32 का मलबे को आज 16 किलोमीटर उत्तर  में लगभग 12000 फीट की ऊंचाई पर देखा गया.

भारतीय नौसेना ने किया ट्वीट
भारतीय नौसेना ने विमान AN-32 को लेकर ट्वीट किया है. नौसेना के ट्विटर हैंडल से लिखा गया, 'लापता एएन-32 विमान का मलबा लिपो से 16 किलोमीटर दूर दिखा है. एमआई-17 हेलिकॉप्टर को सर्च ऑपरेशन के दौरान करीब 12 हजार फीट ऊंचाई पर टाटो के उत्तर-पूर्व में यह मलबा दिखाई दिया है.'

वायुसेना के रिटायर्ड एयर मार्शल पीएस अहलूवालिया ने News18 से कहा कि पहाड़ियों और जंगल से भरा इलाका होने के कारण विमान का पता लगाना मुश्किल हो जाता है. इसी वजह से इसे ढूंढने में आठ दिनों का वक्त लग गया.




यह भी पढ़ें:  AN-32 में खोए एयरफोर्स सैनिकों की तलाश जारी, जानिए कैसा है परिजनों का हाल
 

पांच लाख के इनाम की हुई थी घोषणा

इससे पहले वायुसेना ने इस विमान की जानकारी देने वाले को 5 लाख रुपए इनाम देने की घोषणा की थी. यह घोषणा एयर मार्शल आरडी माथुर एओसी इन कमांड, इस्टर्न एयर कमांड ने की थी. उन्होंने कहा था कि लापता AN-32 की पुख्ता जानकारी देने वाले व्यक्ति या समूह को यह इनाम दिया जाएगा.



इन इलाकों में हुआ सर्च ऑपरेशन

इस विमान की तलाश के लिए एसयू-30 जेट लड़ाकू विमान, सी130 जे, एमआई17 और एएलएच हेलीकॉप्टरों को लगाया. विमान की खोज करीब 2500 वर्ग किमी के क्षेत्र में की गई. यह क्षेत्र सियांग जिले के कायींग और पायुम क्षेत्र के अंदर आता है. रूस निर्मित इस विमान ने अरुणाचल प्रदेश के शि-योमि जिले के मेचुका एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड के लिए सोमवार दोपहर 12.27 बजे असम के जोरहाट से उड़ान भरी थी. जमीनी नियंत्रण कक्ष के साथ विमान का संपर्क दोपहर एक बजे टूट गया था.



खराब मौसम बना बाधा

विमान को ढूंढने के लिए खराब मौसम के दौरान भी सर्च ऑपरेशन जारी रहा. तेज बारिश और हवाओं के कारण पहाड़ी इलाके में विमान को ढूंढना असंभव हो गया था लेकिन इसके बावजूद थल सेना और वायुसेना के जवान लगातार विमान को ढूंढने का प्रयास करते रहे.
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...