मुंबई: पत्नी के गहने बेचकर लोगों को फ्री ऑक्सीजन बांट रहे पास्कल सल्धाना

पास्‍कल अपनी पत्‍नी के अनुरोध पर लोगों को मुफ्त ऑक्‍सीजन उपलब्‍ध करा रहे हैं.

पास्‍कल अपनी पत्‍नी के अनुरोध पर लोगों को मुफ्त ऑक्‍सीजन उपलब्‍ध करा रहे हैं.

कोरोना (Corona) मरीजों के लिए एक मंडप डेकोरेटर पास्कल सल्धाना (Pascal Saldhana) किसी मसीहा से कम नहीं हैं. पास्‍कल अपनी पत्‍नी के अनुरोध पर लोगों को मुफ्त ऑक्‍सीजन (Oxygen) उपलब्‍ध करा रहे हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना (Corona) की दूसरी लहर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्‍या लगातार बढ़ती जा रही है. देश के कई हिस्‍सों में मरीज मेडिकल ऑक्‍सीजन ( Medical Oxygen) की कमी से जूझ रहे हैं. ऐसे समय में कुछ लोग मानवता की मिसान भी पेश कर रहे हैं. कोरोना मरीजों के लिए एक मंडप डेकोरेटर पास्कल सल्धाना (Pascal Saldhana) किसी मसीहा से कम नहीं हैं. पास्‍कल अपनी पत्‍नी के अनुरोध पर लोगों को मुफ्त ऑक्‍सीजन उपलब्‍ध करा रहे हैं.

कोरोना की दूसरी लहर में कोरोना मरीजों को सांस लेने में काफी दिक्‍कत का सामना करना पड़ रहा है. ऑक्‍सीजन के लिए लोग लंबी लंबी लाइन में लगे हुए हैं. ऐसे कठिन समय में पास्कल लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं. पास्कल सल्धाना, बीते 18 अप्रैल से लोगों की मदद कर रहे हैं. संकट की इस घड़ी में पास्‍कल सल्‍धाना लोगों को फ्री में ऑक्सीजन की सप्लाई कर रहे हैं.



न्‍यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत करते हुए उन्होंने बताया, पत्नी के कहने पर मैंने उसके गहने बेच दिए. उनके गहने बेचने के बाद मुझे 80 हजार रुपये मिले. इन रुपयों से ही मैंने लोगों को फ्री में ऑक्सीजन देना शुरू किया. उन्होंने ये भी बताया कि कभी-कभी लोग उन्हें दूसरों की मदद करने के लिए पैसे भी दे देते हैं. उन्‍होंने बताया कि उनकी पत्‍नी डायलिसिसि और ऑक्‍सीजन सपोर्ट पर है. यही कारण है कि उनके पास एक स्‍पेयर सिलेंडर मौजूद रहता है. एक दिन एक स्कूल की प्रिंसिपल ने मुझसे अपने पति के लिए ऑक्सीजन मांगी. पत्‍नी के कहने पर उन्‍होंने स्‍पेयर सिलेंडर दे दिया. बता दें कि पास्कल की पत्नी की दोनों किडनी फेल होने के बाद पिछले 5 साल से डायलिसिस पर हैं.
इसे भी पढ़ें :- भारत में सप्लाई संकट के बीच विदेश में कोवैक्सीन उत्पादन की राह खोज रही सरकार- रिपोर्ट

पास्कल सल्धाना जिस तरह से लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं, उसे देखने के बाद हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है. पास्कल सल्धाना का कहना है कि दुख के समय लोगों के साथ खड़े होने से दुख कम हो जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज