लाइव टीवी

कोरोना वायरस: चीन से आने वाले यात्रियों की दिल्ली, मुंबई, कोलकाता हवाई अड्डों पर थर्मल स्कैनर से होगी जांच

News18Hindi
Updated: January 17, 2020, 7:28 PM IST
कोरोना वायरस: चीन से आने वाले यात्रियों की दिल्ली, मुंबई, कोलकाता हवाई अड्डों पर थर्मल स्कैनर से होगी जांच
केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए दिल्‍ली, मुंबई और कोलकाता एयरपोर्ट पर थर्मल स्‍कैनर से जांच की व्‍यवस्‍था की है.

केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से एक यात्रा परामर्श (Travel Advisory) भी जारी किया है. इसमें चीन (China) की यात्रा करने वाले भारतीय नागरिकों (Indian Citizens) को कुछ एहतियाती उपायों का पालन करने के लिए कहा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2020, 7:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीन में नोवेल कोरोना वायरस (Corona Virus) से होने वाले संक्रमण के मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने एहतियाती उपाय करने शुरू कर दिए हैं. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालस ने अब पड़ोसी देश से आने वाले यात्रियों की दिल्ली, मुंबई और कोलकाता हवाई अड्डों (Airports) पर थर्मल स्कैनर से जांच करने का निर्देश दिया है. भारत सरकार ने एक यात्रा परामर्श (Travel Advisory) भी जारी किया है. इसमें चीन (China) की यात्रा करने वाले भारतीय नागरिकों (Indian Citizens) को कुछ एहतियाती उपायों का पालन करने के लिए कहा गया है.

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने लिया तैयारियों का जायजा
एडवाइजरी में यह भी कहा गया है कि 11 जनवरी तक चीन में नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमण के 41 मामलों की पुष्टि हुई है. इससे एक व्यक्ति की मौत भी हो गई है. स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण सचिव प्रीति सूदन ने कहा कि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) के साथ विचार-विमर्श कर स्थिति की निगरानी की जा रही है. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Dr. Harshvardhan) ने शुक्रवार को देश में लोक स्वास्थ्य तैयारियों का जायजा लिया. मंत्रालय ने कहा कि पर्याप्‍त एहतियात के तौर पर स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने दिल्‍ली, मुंबई और कोलकाता हवाई अड्डों पर चीन से आने वाले अंतरराष्‍ट्रीय यात्रियों की थर्मल स्‍कैनर के जरिये जांच करने का निर्देश दिया है.

रोकथाम और नियंत्रण से जुड़े लोगों को जरूरी निर्देश जारी

नागर विमानन मंत्रालय (Ministry of Civil Aviation) के सहयोग से विमानों में थर्मल स्‍कैनर के जरिये जांच के बारे में घोषणाएं की जा रही हैं. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने प्रयोगशाला जांच, निगरानी, संक्रमण रोकथाम और नियंत्रण से संबंधित लोगों को आवश्‍यक निर्देश जारी कर दिए हैं. सामुदायिक निगरानी के लिए एकीकृत बीमारी निगरानी कार्यक्रम बनाया गया है. एनआईवी पुणे और आईसीएमआर प्रयोगशाला देश में नोवेल कोरोना वायरस के लिए नमूने की जांच में आपसी तालमेल से काम कर रहे हैं. बता दें कि चीन में जानलेवा कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है. अमेरिका भी इसको लेकर अपने नगारिकों को चेतावनी जारी कर चुका है. अमेरिकी विदेश विभाग ने चीन में रह रहे अमेरिकियों को इस वायरस से बचने की सलाह दी है.

वुहान में सबसे ज्‍यादा असर, 40 से ज्‍यादा लोग चपेट में
चीन के वुहान (Wuhan) शहर में इसका सबसे ज्यादा असर देखने को मिल रहा है. कोरोना वायरस की वजह से लोगों को निमोनिया (Pneumonia) हो रहा है. चीनी के स्वास्थ्य अधिकारियों ने नए कोरोना वायरस के संपर्क में आने के 40 से ज्‍यादा मामलों की पुष्टि की है. इनमें सात लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है. इसके अलावा रोगियों के साथ संपर्क में रहने के कारण 419 डॉक्टरों समेत 740 लोगों को चिकित्सा निगरानी में रखा गया है. डब्‍ल्‍यूएचओ ने भी इस वायरस को लेकर दुनियाभर के देशों को चेतावनी जारी की है. संगठन ने चेतावनी देते हुए मंगलवार को कहा था कि वायरस से सतर्क रखने की जरूरत है. इस वायरस की चपेट में आए लोगों में बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं. अधिक गंभीर मामलों में निमोनिया और किडनी फेल हो सकती हैं.ये भी पढ़ें:

पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा- सावरकर को भारत रत्न दिया तो हम विरोध करेंगे

राज्‍यपाल ने कहा- केरल सरकार को राज्‍य का पैसा याचिका पर खर्च करने का हक नहीं

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2020, 7:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर