फर्जी आईडी के जरिए मुंबई लोकल में यात्रा करने वालों की खैर नहीं, रेलवे पुलिस करेगी कड़ी कार्रवाई

मुंबई में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए सख्ती बरती जा रही है. फाइल फोटो

मुंबई में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए सख्ती बरती जा रही है. फाइल फोटो

Passengers using Fake ID: जीआरपी के मुताबिक अब तक 100 से ज्यादा लोगों को फर्जी आईडी के साथ पकड़ा गया और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की गई है.

  • News18India
  • Last Updated: April 26, 2021, 6:14 PM IST
  • Share this:
मुंबई. मायानगरी मुंबई में बढ़ते कोरोना मामलों (Coronavirus) के चलते लॉकडाउन (Lockdown) जैसे प्रतिबंध लगाए गए हैं. इन प्रतिबंधों के चलते मुम्बई की लाइफलाइन (Mumbai Lifeline) लोकल ट्रेनों में सिर्फ अत्यावश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों को ही यात्रा करने की अनुमति दी गई है, जबकि आम लोगों के प्रवेश पर पाबंदी लगाई गई है. बावजूद इसके बड़ी संख्या में लोगों के फर्जी आईडी कार्ड के जरिये यात्रा करने की शिकायतें सामने आ रही हैं, जिसको देखते हुए रेल प्रशासन ने कड़ा रुख अख्तियार किया है. मुम्बई की लोकल ट्रेनों में फर्जी आईडी के जरिए यात्रा करने वालों की अब खैर नहीं है. जो लोग फर्जी आईडी के जरिए यात्रा करते हुए पाए जा रहे हैं, उनके खिलाफ रेलवे पुलिस कड़ी कार्रवाई कर रही है.

मुम्बई में 22 अप्रैल से 1 मई तक लॉकडाउन जैसे कड़े नियम लागू किए गए हैं. जीआरपी द्वारा जारी किए गए आंकड़े के मुताबिक इन नियमों के लागू होने के बाद से अब तक 100 से ज्यादा लोगों को फर्जी आईडी के साथ लोकल में यात्रा करते हुए पकड़ा गया और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की गई है. पिछले 4 दिनों का आंकड़ा यह बताता है कि बड़ी संख्या में लोग मनाही के बावजूद फर्जी आईडी के जरिए लोकल में यात्रा कर रहे हैं. मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी शिवाजी सुतार ने बताया कि फर्जी आईडी के जरिए यात्रा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई तो की जा रही है, लेकिन लोगों से अपील है कि जिन्हें यात्रा करने की अनुमति दी गई है, वहीं लोग यात्रा करें, बाकी लोग स्टेशनों पर भीड़ नहीं लगाएं.

मौजूदा समय में मध्य रेलवे की करीब 80 फीसदी यानी 1392 लोकल ट्रेनें, जबकि पश्चिम रेलवे 1300 ट्रेन सेवाएं चला रही है, जबकि टिकट सिर्फ काउंटरों से आईडी कार्ड देखने के बाद ही जारी किए जा रहे हैं.


आम लोगों को 2 फरवरी से कुछ प्रतिबंधों के साथ लोकल में यात्रा करने की अनुमति दी गई थी, लेकिन बढ़ते कोरोना मामलों से बिगड़ते हालातों को देखते हुए 22 अप्रैल से फिर से आम लोगों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज