लाइव टीवी

जम्मू-कश्मीर में 70 दिन बाद फिर बजी मोबाइल की घंटी, पोस्टपेड सेवा बहाल

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 1:59 PM IST
जम्मू-कश्मीर में 70 दिन बाद फिर बजी मोबाइल की घंटी, पोस्टपेड सेवा बहाल
जम्मू-कश्मीर में पोस्टपेड सेवा एक बार फिर बहाल कर दी गई है.

जम्मू-कश्मीर (Jammu kashmir) में आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद से लगे प्रतिबंध को हटाने और जन-जीवन को पटरी पर लाने की कवायद तेज कर दी गई है. स्कूल और कॉलेज पहले ही खोल दिए गए हैं और पोस्टपेड सेवाओं (Postpaid Mobile Service) को भी आज दोपहर बाद से बहाल किया जाने का फैसला लिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 1:59 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने और राज्य को केंद्रशासित प्रदेश (Union Territory) बनाने के 70 दिन बाद आज पोस्टपेड मोबाइल सेवाएं (Postpaid Mobile Service) शुरू कर दी गई हैं. हालांकि अभी इंटरनेट सेवाओं (Internet Service) को दोबारा शुरू करने पर कोई फैसला नहीं लिया गया है. अधिकारियों ने कहा है कि है कि हम राज्य की सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रख रहे हैं और बहुत जल्द इंटरनेट सेवा को दोबारा शुरू किया जा सकता है.

जम्मू-कश्मीर के जन-जीवन को पटरी पर लाने की कोशिशें जारी हैं. स्कूल और कॉलेज पहले ही खोल दिए गए हैं और पोस्टपेड सेवाओं को आज एक बार फिर बहाल कर दिया गया है. अधिकारियों ने कहा कि पहले पोस्ट-पेड मोबाइल सेवाओं को शुरू कर दिया गया है, इसके बाद प्री-पेड सेवाओं को पूरे राज्य में खोलने पर काम किया जाएगा. उन्होंने यह भी जोर दिया है कि पोस्ट-पेड मोबाइल सेवाओं के लिए ग्राहकों का उचित सत्यापन किया जाएगा.



लगभग 66 लाख मोबाइल ग्राहक
Loading...

घाटी में लगभग 66 लाख मोबाइल ग्राहक हैं, जिनमें से लगभग 40 लाख ग्राहकों के पास पोस्ट-पेड सुविधाएं हैं. केंद्र द्वारा पर्यटकों के लिए घाटी खोलने की सलाह जारी करने के दो दिन बाद यह कदम उठाया गया. ट्रैवल एसोसिएशन ने प्रशासन से संपर्क किया था, जिसमें कहा गया था कि जहाँ कोई भी मोबाइल फोन काम न करे वहां कोई भी पर्यटक नहीं आना चाहेगा.

jammu and kashmir, jammu and kashmir communication, jammu and kashmir mobile, Kashmir, postpaid, जम्मू और कश्मीर, जम्मू और कश्मीर में संचार, जम्मू और कश्मीर मोबाइल, कश्मीर, पोस्टपेड
घाटी में करीब 68 लाख मोबाइल ग्राहक हैं. (News18 Creative by Mir Suhail)


05 अगस्त को मोबाइल सेवाएं बंद कर दी गईं
केंद्र द्वारा संविधान के अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को रद्द करने के बाद बाद 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर में मोबाइल सेवाएं बंद कर दी गईं थी. घाटी में 17 अगस्त को आंशिक फिक्स्ड लाइन टेलीफोन को फिर से शुरू किया गया था और 4 सितंबर तक लगभग 50,000 की संख्या वाली सभी लैंडलाइनों को चालू घोषित कर दिया गया था. जम्मू में, नाकाबंदी के दिनों के भीतर संचार प्रणाली को बहाल कर दिया गया था और यहां तक ​​कि मोबाइल इंटरनेट भी अगस्त के मध्य में शुरू किया गया था. हालांकि, इसके दुरुपयोग के बाद, 18 अगस्त को सेलुलर फोन पर इंटरनेट की सुविधा छिन गई थी.

Jammu and Kashmir, Article 370, Postpaid Mobile Service, Internet, Union Territory,
पर्यटकों के घाटी छोड़ने संबंधी ट्रैवल एडवाइजरी को वापस ले लिया गया है.


कश्मीर घूमने फिर से जा सकेंगे पर्यटक
आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35ए हटाए जाने से पहले पर्यटकों के घाटी छोड़ने संबंधी ट्रैवल एडवाइजरी को वापस ले लिया गया है. जम्मू-कश्मीर के सामान्य स्थिति में लौटने की दिशा में एक बड़े कदम में राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने सोमवार को दो महीने पहले जारी की गई ट्रैवल एडवाइजरी को वापस ले लिया. इस ट्रैवल एडवाइजरी में कहा गया था कि पर्यटक जल्द से जल्द घाटी छोड़ दें. सोमवार रात जारी किए गए आदेश के अनुसार, पर्यटकों को राज्य में लौटने की अनुमति दे दी गई है. यह आदेश 10 अक्टूबर से लागू होगा.

इसे भी पढ़ें :-
जम्‍मू-कश्‍मीर: टीचर्स स्‍कूलों की जगह घरों में स्‍पेशल क्‍लास लगाकर पूरा करा रहे हैं सिलेबस
पाकिस्‍तान ने सर्बिया में उठाया कश्‍मीर मुद्दा तो भड़के शशि थरूर ने लगाई क्‍लास
ग्रेनेड हमले के बाद श्रीनगर में बढ़ाई गई सुरक्षा, संदिग्‍ध की तलाश में सर्च ऑपरेशन जारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 9:10 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...