अपना शहर चुनें

States

PDP नेता वहीद पारा ने पूर्व डीएसपी दविंदर के हाथों हिजबुल को भेजे थे 10 लाख रुपये: NIA

वाहिद पारा को युवाओं के पुलवामा और आसपास के दक्षिणी कश्मीर के शोपियां जिलों में मुख्यधारा की राजनीति में शामिल होने के लिए एक प्रमुख प्रेरक माना जाता है, जहां आतंकवाद फिर से अपने पैर पसार रहा है. (PTI)
वाहिद पारा को युवाओं के पुलवामा और आसपास के दक्षिणी कश्मीर के शोपियां जिलों में मुख्यधारा की राजनीति में शामिल होने के लिए एक प्रमुख प्रेरक माना जाता है, जहां आतंकवाद फिर से अपने पैर पसार रहा है. (PTI)

एनआईए ने कहा कि टेरर फंडिंग (Terror Funding Case) केस में पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP) के यूथ विंग के अध्यक्ष वहीद पारा (Waheed Ur Rehman Para) वहीद पारा को अन्य आरोपियों के साथ साजिश में हिजबुल मुजाहिदीन का समर्थन करने के लिए दागी डीएसपी दविंदर सिंह मामले में गिरफ्तार किया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 30, 2020, 4:02 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने जम्मू-कश्मीर में टेरर फंडिंग (Jammu-Kashmir Terror Funding Case) मामले में पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP) के यूथ विंग के अध्यक्ष वहीद पारा (Waheed Ur Rehman Para) को लेकर अहम खुलासे किए हैं. उनपर कथित तौर पर आतंकियों के साथ संबंध रखने का आरोप है. एनआईए के मुताबिक, 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान वहीद पारा ने कथित तौर पर दागी पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) दविंदर सिंह के जरिए आंतकी संगठन हिजबुल-उल-मुजाहिद्दीन को 10 लाख रुपये पहुंचाए थे.

इंडियन एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से ये रिपोर्ट दी है. रिपोर्ट के मुताबिक, ये रकम कथित तौर पर दविंदर सिंह के जरिए हिजबुल के ऑपरेटिव सैयद मुश्ताक नावेद उर्फ ​​नावेद बाबू को दिया गया था, ताकि घाटी में आंतकी खेल खेला जा सके. हालांकि, जम्मू-कश्मीर पुलिस अधिकारियों को श्रीनगर एयरपोर्ट पर चेकिंग के दौरान एक टिफिन बॉक्स से ये पैसे मिल गए थे.

महबूबा मुफ्ती ने फिर दिया विवादित बयान, कहा-भारत को सीपेक का हिस्सा होना चाहिए



राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने 25 नवंबर को पीडीपी यूथ विंग के अध्यक्ष वहीद-उर-रहमान को डीएसपी दविंदर सिंह केस में गिरफ्तार किया था. गिरफ्तारी से दो दिन तक NIA दिल्ली स्थित मुख्यालय में पारा से पूछताछ कर रही थी. वहीद पारा ने पुलवामा से बीजेपी उम्मीदवार सज्जाद अहमद रैना को हराया था. फिलहाल पारा जेल में बंद हैं.


वहीद-उर-रहमान के वकील टीएन रैना ने जब नए आरोपों के बारे में बात करने की कोशिश की गई, तो उन्होंने कुछ भी कहने से साफ इनकार कर दिया. हालांकि, जम्मू में एनआईए की विशेष अदालत के समक्ष दायर अपनी जमानत अर्जी में वहीद पारा ने हिजबुल से अपने लिंक को लेकर सभी आरोपों को खारिज किया है. पारा ने दलील दी थी कि उन्हें एक राजनीतिक पार्टी साजिश के तहत फंसा रही है.

दक्षिणी कश्मीर के शोपियां जिलों में एक्टिव हैं पारा
पारा को युवाओं के पुलवामा और आसपास के दक्षिणी कश्मीर के शोपियां जिलों में मुख्यधारा की राजनीति में शामिल होने के लिए एक प्रमुख प्रेरक माना जाता है, जहां आतंकवाद फिर से अपने पैर पसार रहा है. साल 2016 से 2018 तक जम्मू-कश्मीर स्पोर्ट्स काउंसिल के सचिव के रूप में, वहीद पारा ने जम्मू और कश्मीर में कई जगहों पर खेल का आयोजन करने में एक प्रमुख भूमिका निभाई है, जिसमें लद्दाख क्षेत्र भी शामिल रहा है.

ये है पूरा मामला
सस्पेंडेंट डीएसपी देविंदर सिंह को 11 जनवरी को उस समय गिरफ्तार किया गया था, जब वह हिज्बुल कमांडर सईद नावीद मुस्ताक उर्फ नावीद बाबू, वकील मोहम्मद शाफी मीर और दूसरे आतंकवादी रफी अहमद राथर को कार से जम्मू ले जा रहा था. केस को बाद में एनआईए को ट्रांसफर कर दिया गया था, जिसने कश्मीर के कई हिस्सों में छापेमारी भी की थी.

जम्मू-कश्मीर: सेना का बड़ा 'सफाई अभियान', 2020 में मारे 203 आतंकी, 166 स्थानीय

सूत्रों ने कहा कि फरवरी 2019 में, जब नावेद बाबू और मीर कथित तौर पर जम्मू में दविंदर सिंह के बंदोबस्त किए गए ठिकाने में रह रहे थे, तो मीर ने कथित तौर पर हिजबुल की मदद के लिए फंडिंग के लिए पारा को कोड मैसेज भेजा था. सूत्रों के मुताबिक एनआईए के अधिकारी ने बताया, 'मीर और पारा एक-दूसरे को लंबे समय से जानते हैं. मीर ने वाहिद पारा को बताया कि हिजबुल के लिए पांच एके -47 राइफल खरीदने के लिए 10 लाख रुपये की जरूरत है. पारा पैसे पहुंचाने के लिए सहमत थे, लेकिन उन्होंने एक शर्त रखी कि हिजबुल चुनावों में कोई परेशानी नहीं पैदा करेगा. साथ ही ये संगठन पुलवामा में अपने कार्यकर्ताओं का ध्यान रखेगा. उन्होंने चुनाव के लिए हिजबुल का समर्थन भी मांगा था. सूत्रों के मुताबिक, इसके बाद पारा ने दविंदर सिंह की मदद से हिजबुल को पैसे पहुंचाए थे.


जांचकर्ताओं ने मीर और नवीद बाबू के बयानों का हवाला दिया है, जिसमें दोनों ने पैसे के लेनदेन की बात मानी है. अब स्वतंत्र गवाहों के बयान दर्ज किए जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज