दक्षिण एशिया में शांति, स्थिरता और समृद्धि भारत-पाकिस्तान के बीच संबंधों पर टिकी

सांकेतिक फोटो (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

सांकेतिक फोटो (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

तुर्की के एक पूर्व राजनयिक एवं नेता बोजकिर ने कहा कि दक्षिण एशिया में शांति, स्थिरता और समृद्धि पाकिस्तान और भारत के बीच संबंधों के सामान्यीकरण पर टिकी हुई है, जो कश्मीर मुद्दे के समाधान से संभव है.

  • Share this:

इस्लामाबाद. संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष वोल्कन बोजकिर ने बृहस्पतिवार को कहा कि दक्षिण एशिया में शांति, स्थिरता और समृद्धि पाकिस्तान और भारत के बीच संबंधों के सामान्य होने पर टिकी हुई है. बोजकिर ने साथ ही दोनों पड़ोसी देशों से कश्मीर मुद्दे का शांतिपूर्ण समाधान के लिए काम करने का आग्रह किया.

तुर्की के एक पूर्व राजनयिक एवं नेता बोजकिर एक आधिकारिक यात्रा पर पाकिस्तान में हैं. उन्होंने यह टिप्पणी यहां राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय में 'बहुपक्षवाद के महत्व' पर एक चर्चा के दौरान की. बोजकिर ने कहा कि दक्षिण एशिया में शांति, स्थिरता और समृद्धि पाकिस्तान और भारत के बीच संबंधों के सामान्यीकरण पर टिकी हुई है, जो कश्मीर मुद्दे के समाधान से संभव है.

भारत-पाकिस्तान से की ये अपील

उन्होंने कहा, ‘‘मैं भारत और पाकिस्तान से इस इस मुद्दे के शांतिपूर्ण समाधान के लिए काम करने का आग्रह करता हूं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैंने हमेशा पक्षों से विवादित क्षेत्र की स्थिति बदलने से परहेज करने का आग्रह किया है.’’ बोजकिर का परोक्ष तौर पर इशारा भारत द्वारा अगस्त, 2019 में जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के कदम की ओर था.

Youtube Video

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के निमंत्रण पर आधिकारिक यात्रा पर बुधवार को इस्लामाबाद पहुंचे बोजकिर ने उनके साथ विदेश मंत्रालय में भी बातचीत की और अन्य मामलों के अलावा कश्मीर के मुद्दे पर भी चर्चा की.

विदेश कार्यालय ने ट्वीट किया, ‘‘बोजकिर ने दोहराया कि जम्मू कश्मीर मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र की स्थिति संयुक्त राष्ट्र चार्टर और प्रासंगिक संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्तावों द्वारा शासित है.’’ भारत और पाकिस्तान के संबंधों में 2016 में पठानकोट वायुसेना बेस पर पड़ोसी देश में स्थित आतंकी समूहों द्वारा आतंकवादी हमले के बाद गिरावट आयी. वहीं उरी में भारतीय सेना के शिविर पर हमले सहित बाद के हमलों ने संबंधों को और खराब कर दिया.



दोनों देशों के संबंधों में तब और गिरावट आयी जब भारत के लड़ाकू विमानों ने 26 फरवरी, 2019 को पुलवामा आतंकवादी हमले के जवाब में पाकिस्तान के अंदर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर को निशाना बनाया था. पुलवामा आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे.

ये भी पढ़ें- केंद्र नए डिजिटल नियमों को लेकर सख्‍त! सरकार ने सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म्‍स से कहा-तुरंत दें अनुपालन की स्‍टेटस रिपोर्ट

2019 में और ज्यादा खराब हुए भारत-पाकिस्तान के रिश्ते

इसके बाद अगस्त, 2019 में भारत द्वारा जम्मू कश्मीर की विशेष दर्जा समाप्त करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने की घोषणा के बाद दोनों देशों के संबंध और खराब हुए. भारत ने पाकिस्तान से कहा है कि वह आतंकवाद, शत्रुता और हिंसा से मुक्त वातावरण में इस्लामाबाद के साथ सामान्य पड़ोसी संबंध चाहता है. भारत ने कहा है कि आतंकवाद और शत्रुता से मुक्त वातावरण बनाने की जिम्मेदारी पाकिस्तान की है.


बोजकिर संयुक्त राष्ट्र महासभा की अध्यक्षता करने वाले तुर्की के पहले नागरिक हैं. उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष पद संभालने से पहले अगस्त 2020 में भी पाकिस्तान का दौरा किया था. अपने संबोधन के दौरान बोजकिर ने यह भी कहा कि फलस्तीन के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र की निष्क्रियता इसकी विश्वसनीयता को आहत कर रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज