Home /News /nation /

कांग्रेस का केंद्र पर बड़ा आरोप, कहा- सरकार ने जासूसी के लिए खरीदा था पेगासस सॉफ्टवेयर

कांग्रेस का केंद्र पर बड़ा आरोप, कहा- सरकार ने जासूसी के लिए खरीदा था पेगासस सॉफ्टवेयर

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार ने पेगासस जासूसी सॉप्टवेयर को लेकर इजरायल से डील की थी. (फोटो- @rssurjewala)

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार ने पेगासस जासूसी सॉप्टवेयर को लेकर इजरायल से डील की थी. (फोटो- @rssurjewala)

Pegasus Spyware: न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी एक खबर में ये दावा किया है कि भारत-इजराइल के बीच हुए लगभग दो अरब डॉलर के हथियार एवं खुफिया उपकरण सौदे में स्पाइवेयर पेगासस और एक मिसाइल प्रणाली ''केंद्रबिंदु'' थे. खबर में जुलाई 2017 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इजराइल यात्रा का भी उल्लेख किया गया.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. इजराइली स्पाइवेयर पेगासस (Pegasus Spyware) को लेकर एक बार फिर से आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार ने पेगासस जासूसी सॉप्टवेयर को लेकर इजरायल से डील की थी. कांग्रेस ने पेगासस स्पाईवेयर से संबंधित ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की खबर को लेकर शनिवार को केंद्र सरकार पर ‘देशद्रोह करने’ और संसद एवं उच्चतम न्यायालय के साथ धोखा करने का आरोप लगाया और कहा कि वह आगामी बजट सत्र के दौरान संसद के भीतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जवाबदेही तय करने की मांग करेगी क्योंकि ‘‘वह खुद इस स्पाईवेयर की खरीद के एवं इसके गैरकानूनी उपयोग के लिए जिम्मेदार हैं.

    मुख्य विपक्षी पार्टी ने यह भी कहा कि वह इस मामले पर जल्द ही विभिन्न विपक्षी दलों के साथ बातचीत करके संसद सत्र के समय की रणनीति तय करेगी. कांग्रेस के नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सरकार ने पेगासस के मुद्दे पर संसद से लेकर सुप्रीम कोर्ट हर जगह झूठ बोला. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी अब ये मुद्दा संसद में उठाएगी. उन्होंने कहा, ‘मोदी सरकार ने संसद से झूठ बोला. उनके सांसदों ने भी झूठ बोला. साथ ही सुप्रीम कोर्ट में झूठा शपथ पत्र दिया गया. हमलोग इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे और फिर आपको बताएंगे कि हमारा अगला कदम क्या होगा.’

    नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘मोदी सरकार ने भारत के शत्रु की तरह काम क्यों किया और भारतीय नागरिकों के खिलाफ ही युद्ध के हथियारों का उपयोग क्यों किया? पेगासस का उपयोग गैरकानूनी जासूसी के लिए करना राष्ट्रद्रोह है। कानून से बढ़कर कोई नहीं है। हम सुनिश्चित करेंगे कि न्याय हो.’

    न्यूयॉर्क टाइम्स का दावा
    बता दें कि द न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी एक खबर में ये दावा किया है कि भारत-इजराइल के बीच हुए लगभग दो अरब डॉलर के हथियार एवं खुफिया उपकरण सौदे में स्पाइवेयर पेगासस और एक मिसाइल प्रणाली ”केंद्रबिंदु” थे. खबर में जुलाई 2017 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इजराइल यात्रा का भी उल्लेख किया गया. ये किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली इजराइल यात्रा थी.

    सरकार पर लगे थे आरोप
    पिछले साल उस समय ये विवाद खड़ा हो गया था, जब भारत सहित कई देशों में पत्रकारों, मानवाधिकार रक्षकों, नेताओं और अन्य लोगों की जासूसी करने के लिए कुछ सरकारों द्वारा कथित तौर पर एनएसओ समूह के पेगासस सॉफ्टवेयर के उपयोग की बात सामने आई थी.

    क्या  पेगासस?
    पेगासस को एक इजरायली कंपनी एनएसओ (NSO) ने इसे विकसित किया है, और पेगासस स्पाईवेयर के बारे में पहली जानकारी 2016 में मिली थी. स्पाईवेयर अपने नाम की मुताबिक लोगों की उनकी फोन के जरिए जासूसी करता है. पेगासस स्पाईवेयर जासूसी करने के लिए अपने टारगेट के फोन पर एक एक्सप्लॉयट लिंक भेजता है.

    Tags: Pegasus Espionage Case

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर