Assembly Banner 2021

Gorakhpur News: गोरखपुर के शहीद अशफाक उल्ला खां चिड़ियाघर की रौनक बढ़ाएगी पेंग्विन

गोरखपुर के शहीद अशफाक उल्ला खां चिडिय़ाघर की रौनक बढ़ाएगी पेंग्विन

गोरखपुर के शहीद अशफाक उल्ला खां चिडिय़ाघर की रौनक बढ़ाएगी पेंग्विन

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक गोरखपुर में निर्माणाधीन शहीद अशफाक उल्ला खां प्राणि उद्यान की और रौनक बढ़ेगी. यहां कई वन्य प्राणि मौजूद हैं, लेकिन अब यह पेंग्विन की मौजूदगी के कारण भी जाना जायेगा.

  • Share this:
गोरखपुर. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक गोरखपुर (Gorakhpur) में निर्माणाधीन शहीद अशफाक उल्ला खां प्राणि उद्यान (Ashfaq Ulla Khan Zoo) की और रौनक बढ़ेगी. यहां कई वन्य प्राणि मौजूद हैं, लेकिन अब यह पेंग्विन की मौजूदगी के कारण भी जाना जायेगा. शहीद अशफाक उल्ला खां प्राणि उद्यान में पेंग्विन रखने की योजना को साकार रूप दिया जा रहा है, जिसके बाद पेंग्विन की मौजूदगी वाला यह देश का दूसरा चिड़ियाघर हो जायेगा. अभी तक देश में मुम्बई के भायखला स्थित वीरमाता जीजाबाई भोसले उद्यान में ही पेंग्विन हैं. गोरखपुर में हम्बोल्ट प्रजाति की पेंग्विन लाने की तैयारी चल रही है. साथ ही इस जू में जिराफ और इजराइल से दरयाई घोड़ा भी लाया जायेगा.

गोरखपुर का इस चिड़ियाघर के पास अपना खुद का वेट लैंड है. मौजूदा समय में 35 एकड़ से अधिक का वेटलैंड है. जहां पर पक्षियां विचरण कर सकेंगी. साथ ही चिड़ियाघर के बगल करीब 150 एकड़ जमीन पर सफारी बनाने की योजना भी है. मार्च महीने प्रदेशवासियों को तीसरे प्राणि उद्यान का तोहफा मिल सकता है. गोरखपुर प्राणि उद्यन में जानवरों के आने का सिलसिला जारी है. दरियाईघोड़ा, बाघ, अजगर, डीयर, तेंदुए सहित कई जानवरों को लखनऊ कानपुर के साथ गोरखपुर वन विहार से लाया गया है. इन सभी जानवरों को क्वारंटाइन किया गया है.

प्राणि उद्यान के डॉक्टर योगेश कुमार का कहना है कि जनवरों को अभी 21 दिन के लिए क्वारंटाइन किया गया है. इस दौरान जानवरों पर नजर रखी जा रही है. अगर उन्हें कोई बिमारी होती है तो इतने दिनों में लक्षण सामने आ जाते हैं, साथ ही जानवरों का परिवेश बदलता है और वो एक नये परिवेश में ढलते हैं, इसलिए उन्हें कुछ समय चाहिए होता है. इस कारण जब भी कोई जानवर लाया जाता है तो उन्हें अगल रखा जाता है. प्राणि उद्यान में जहां चिड़ियों की चहचाहट सुनने को मिलेंगी तो बब्बर शेर, बाघ, तेंदुआ, गैंडा, दरयाई घोड़ा, लकड़बग्घा, भेड़ियाा, भालू सहित कई अन्य जानवरों की दहाड़ भी सुनाई देगी. इसके लोकार्पण के बाद गोरखपुर की खूबसूरती और बढ़ जायेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज