Assembly Banner 2021

पूर्व स्टाफ का दावा- भारत में फेसबुक के जरिए लोगों को किया जा रहा गुमराह

अब फेसबुक की पूर्व महिला कर्मचारी ने फेसबुक के काम पर एक बड़ा नोट शेयर किया है.

अब फेसबुक की पूर्व महिला कर्मचारी ने फेसबुक के काम पर एक बड़ा नोट शेयर किया है.

फेसबुक (Facebook) की पूर्व डेटा साइंसटिस्ट सोफी जेंग (Sophie Zhang) ने 6600 शब्दों का एक मेमो लिखा है. जेंग ने अपने मेमो में बताया कि अजरबैजान और होंडुरास जैसे कई देश जनता की राय जानने के लिए जाली फेसबुक अकाउंट (Fake Facbook Account) को अपना हथियार बना रहे हैं. इसमें भारत समेत यू्क्रेन, स्पेन, ब्राजील, बोल्विया और इक्वाडोर देश भी शामिल हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 16, 2020, 4:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक (Facebook) इन दिनों खासा चर्चा में है. बीते दिनों कई फेसबुक यूजर्स के अकाउंट हैक (Account Hack) और इसका दुरुपयोग करने की खबरों से बाजार गर्म हो गया था. अब फेसबुक की पूर्व महिला कर्मचारी ने फेसबुक के काम पर एक बड़ा नोट शेयर किया है. इसमें उन्होंने इस बात का खुलासा किया है कि दुनिया में कैसे राजनीतिक एजेंडे तैयार कर संबंधित देश की जनता को इसमें फंसाया जा रहा है. साथ ही चुनावों के दौरान कैसे राजनीतिक दल अपने मंसूबों में कामयाब हो रहे हैं.

फेसबुक कंपनी की पूर्व डेटा साइंसटिस्ट सोफी जेंग (Sophie Zhang) ने 6600 शब्दों का एक मेमो लिखा है. जेंग ने अपने मेमो में बताया कि अजरबैजान और होंडुरास जैसे कई देश जनता की राय जानने के लिए जाली फेसबुक अकाउंट (Fake Facbook Account) को अपना हथियार बना रहे हैं. इसमें भारत समेत यूक्रेन, स्पेन, ब्राजील, बोल्विया और इक्वाडोर देश भी शामिल हैं.

फेसबुक की पूर्व स्टाफ का दावा- एक पार्टी के इशारे पर 2020 में दिल्ली चुनाव को प्रभावित करने की हुई थी कोशिश



जेंग ने खुलासा किया कि फेक अकाउंट के जरिए सोशल मीडिया पर बडे़ कैंपेन के तहत इन देशों के राजनीति और समाजिक माहौल में बड़ी उथल-पुथल की जा रही है. हालांकि, जेंग ने बताया है कि वह इस निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई है कि इसके पीछे कौन है. जेंग ने बताया, 'मैंने फेसबुक में तीन साल काम किया, इस दौरान मैंने पाया कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई राष्ट्रीय सरकारें सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का बड़े पैमाने पर दुरुपयोग कर रही है. इसके जरिये वे अपनी देश की जनता को गुमराह करने में लिप्त हैं.'

Youtube Video


सोफी जेंग के चौंकाने वाले खुलासे
सोफी ने कहा कि फेसबुक कंपनी में काम करने के दौरान पाया कि कई देश गैर-राजनीतिक रूप से अपनों मंसूबों को पूरा करने में जुटे हुए हैं. उन्होंने भारत समेत कई देशों की ओर से सोशल मीडिया पर लोगों को गुमराह करने वाले नेटवर्क का खुलासा किया है.

भारत के संदर्भ में खुलासा करते हुए सोफी जेंग ने बताया कि आम चुनावों के दौरान राजनीतिक रूप से परिष्कृत नेटवर्क का पता चला, जिसमें हजारों से ज्यादा फिल्मी कलाकार शामिल थे. यह नेटवर्क दिल्ली विधानसभा चुनाव में सक्रिय रूप से काम कर रहा था, लेकिन फेसबुक ने सार्वजनिक तौर पर इसका कभी खुलासा नहीं किया.

जेंग ने दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर स्पेन स्वास्थ्य मंत्रालय के फेसबुक पेज पर हेरफेर करने वाले तकरीबन सात लाख जाली अकाउंट को डिलीट करने में स्पेन सरकार की मदद की थी. उन्होंने बताया कि अमेरिका में फेक अकाउंट का जाल सरकार के लिए सिरदर्द बन गया था. जिसमें जेंग ने उनकी भी मदद की थी.

जेंग ने ब्राजील में फेक अकाउंट का खुलासा करते हुए बताया कि उन्होंने 2018 में 10 मिलियन यानी 1 करोड़ जाली प्रतिक्रियाओं (Fake Reaction) को पेज से हटाया था, जो कि वहां की सरकार के लिए सकारात्मक एजेंडा तैयार कर रहे थे. उन्होंने यह भी खुलासा किया अजरबैजान में विपक्ष को कमजोर करने लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का सहारा लिया गया. जेंग के रिपोर्ट करने के बाद इस पर जांच-पड़ताल की जा रही है.


शिवसैनिकों के हमले का शिकार हुए पूर्व नेवी अफसर मदन शर्मा बोले- अब मैं बीजेपी-RSS के साथ

जेंग ने अमेरिका-रूस की राजनीति पर भी बड़ा खुलासा किया. उन्होंने अपने मेमो में बताया कि साल 2019 में NATO के एक शोधकर्ता ने फेसबुक को सूचित कर बताया की रूस की ओर से अमेरिका की राजनीति में उथल-पुथल करने की कोशिश की जा रही है. अमेरिका की ओर से आई जानकारी के आधार पर जेंग ने इसे डिएक्टिवेट कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज