अपना शहर चुनें

States

ब्रिटेन से भारत आए 10 यात्रियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने से मचा हड़कंप, सरकार ने कहा नए स्ट्रेन की पुष्टि नहीं

अहमदाबाद नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी भाविन सोलंकी ने कहा कि ब्रिटेन से आए 275 लोगों में चार यात्रियों को पॉजिटिव पाया गया है. (तस्वीर: यूज 18 ग्राफिक्‍स)
अहमदाबाद नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी भाविन सोलंकी ने कहा कि ब्रिटेन से आए 275 लोगों में चार यात्रियों को पॉजिटिव पाया गया है. (तस्वीर: यूज 18 ग्राफिक्‍स)

दिल्ली पहुंचे विमान से उतरकर एक आदमी चेन्नई के लिए रवाना हुआ और वहां जांच में उसके भी पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 22, 2020, 11:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ब्रिटेन सहित आधा दर्जन जगहों पर मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन ने दुनिया भर में दहशत फैला रखी है. इधर ब्रिटेन से भारत आए 10 लोगों के कोरोना वायरस (Coronavirus) पॉजिटिव पाए जाने के बाद हड़कंप मच गई है. एक रिपोर्ट के मुताबिक 10 में से 4 लोग अहमदाबाद में पॉजिटिव पाए गए हैं, जबकि दिल्ली में 5 लोगों के कोरोना वायरस संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. अहमदाबाद नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी भाविन सोलंकी ने कहा कि ब्रिटेन से आए 275 लोगों में चार यात्रियों को पॉजिटिव पाया गया है. इससे पहले एयर इंडिया (Air India) के लंदन से दिल्ली आए विमान में सवार छह यात्री कोरोना वायरस संक्रमित पाए गए थे. दिल्ली पहुंचे विमान से उतरकर एक आदमी चेन्नई के लिए रवाना हुआ और वहां जांच में उसके भी पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है.

उधर, नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉक्टर वीके पॉल (VK Paul) ने मंगलवार को कहा कि ब्रिटेन में मिला कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन सुपर स्प्रेडर (Super Spreader) साबित हो सकता है, क्योंकि नए स्ट्रेन से संक्रमण की रफ्तार के 70 फीसद तक बढ़ने की आशंका है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में कोरोना वायरस के एक्टिव मामले 3 लाख से कम हैं और ये पिछले 163 दिनों में सबसे कम है.

कोरोना वायरस को लेकर जारी स्वास्थ्य मंत्रालय के बयान में डॉ. वीके पॉल ने कहा, "हम अच्छी स्थिति में हैं और इस गति को बनाए रखना है. सतर्क रहने से वायरस को मात देने में मदद मिलेगी. ब्रिटेन के शोधकर्ताओं से हमने बात की है. पता चला कि म्यूटेशन के चलते संक्रमण की रफ्तार बढ़ रही है. कहा जा रहा है कि नए स्ट्रेन के चलते संक्रमण में 70 फीसद की तेजी देखने को मिल रही है. हम कह सकते हैं कि वायरस सुपर स्प्रेडर बन गया है."



पढ़ेंः जानिए किन-किन देशों में हुई कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन की पुष्टि
वायरस के RNA में बदलाव है म्यूटेशन
उन्होंने आगे कहा, "म्यूटेशन से बीमारी की गंभीरता पर कोई असर नहीं पड़ रहा है और ना ही मृत्यु के मामले और अस्पताल में भर्ती में होने की आवश्यकताओं पर भी असर देखने को मिला है. ब्रिटेन में मिला कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन अभी तक भारत में नहीं मिला है. चिंता की कोई बात नहीं है. लेकिन, हमें सतर्क रहने की जरूरत है." वायरस के म्यूटेशन के बारे में समझाते हुए उन्होंने कहा, "वायरस के RNA में बदलाव को म्यूटेशन कहते हैं. वायरस में बदलाव को ड्रिफ्ट कहते हैं. हालांकि ये कोई महत्वपूर्ण बात नहीं है. ज्यादा वायरस में ऐसा होता है और इस वायरस के साथ भी ऐसा है."

कोरोना वायरस वैक्सीन के विकास पर डॉ. पॉल ने कहा कि ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के चलते हमारे देश या दूसरे देशों में विकसित की जा रही है वैक्सीन कार्यक्रम पर कोई असर नहीं पड़ने वाला.

उन्होंने जोर देकर कहा, "ब्रिटिश वैज्ञानिकों, विश्व स्वास्थ्य संगठन और भारतीय शोधकर्ताओं के गहन ज्ञान और अनुभव के आधार पर हम कह सकते हैं कि चिंता की कोई बात नहीं है. वायरस के म्यूटेशन के चलते कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज की प्रक्रिया और गाइडलाइन में बदलाव नहीं किया जाएगा."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज