चीन की हरकतों से बौखलाए लोग, विरोध में बालकनी से फेंका चाइनीज़ TV, देखें VIDEO

चीन की हरकतों से बौखलाए लोग, विरोध में बालकनी से फेंका चाइनीज़ TV, देखें VIDEO
लोगों ने टीवी तोड़कर चीनी सामानों का बॉयकॉट किया

लद्दाख (Ladakh) में भारत-चीन के हिंसक टकराव (India-China Faceoff) के बाद लोगों ने चीनी सामान को बॉयकॉट करने की भी अपील की. गुजरात (Gujarat) के सूरत (Surat) में कुछ लोगों ने विरोध स्वरूप चाइनीज टीवी बालकनी से फेंककर तोड़ दिया.

  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) की गलवान घाटी (Galwan Valley) में भारत और चीन (India China) के बीच पिछले एक महीने से भी ज्यादा समय से विवाद जारी है. 15-16 जून की दरम्यानी रात ये विवाद हिंसक झड़प में बदल गया जिसमें भारत से 20 जवान शहीद हो गए वहीं चीन के भी कई जवान इस टकराव में हताहत हुए हैं. सीमा पर हुई इस घटना को लेकर देश भर के लोगों में भी गुस्सा है. ऐसे में लोग चीन की हरकतों के विरोध में सड़क पर उतर आए और तमाम जगहों पर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) और चीन का झंडा जलाया. इतना ही नहीं लोगों ने चीनी सामान को बॉयकॉट करने की भी अपील की. गुजरात (Gujarat) के सूरत (Surat) में कुछ लोगों ने विरोध स्वरूप चाइनीज टीवी बालकनी से फेंककर तोड़ दिया.
कोलकाता में रोका गया चीन से आयातवहीं कोलकाता (Kolkata) में भी कारोबारियों ने चीन से आयात रोक दिया है. भारत से इंजीनियरिंग सामान का आयात करने वाले शीर्ष 25 देशों में से चीन ऊपर के दो देशों में से एक है. अप्रैल 2020 में भारत का चीन को इंजीनियरिंग निर्यात सालाना आधार पर सकारात्मक रहा है. कोलकाता बंदरगाह पर कुल जितना मालवहन किया जाता है, उसका करीब 20 प्रतिशत अकेले चीन के साथ व्यापार के चलते होता है.अहमदाबाद में सड़कों पर उतरे लोगवहीं अहमदाबाद (Ahmedabad) में लोग चीन के विरोध में सड़कों पर उतरे. इन लोगों ने लद्दाख में मारे गए चीनी सैनिकों को श्रद्धांजलि दी और फिर चीनी सामानों का बॉयकॉट करने की अपील की.


शिलॉन्ग में बंद किया जाएगा हांग-कांग बाजार
वहीं खबर ये भी सामने आई है कि शिलॉन्ग के हांग-कांग बाजार का नाम भी बदला जाएगा और यहां पर चीनी उत्पादों की बिक्री पर रोक लगाई जाएगी. सिलिगुड़ी के इस बाजार में चीन के आकर्षक सामानों की बिक्री होती है, जिसमें गैजेट, कॉस्मेटिक और घर के सामान जैसी कई चीजें मिलती हैं.



ये भी पढ़ें-
भारत-चीन विवाद को समझने के लिए आपको जरूर पढ़नी चाहिये ये 5 किताबें

चीन से टकराव के बीच समझें 'मेड इन इंडिया' और 'असेंबल्‍ड इन इंडिया' का फर्क
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज