लाइव टीवी

राष्ट्रपति से लेकर मंत्रियों और संगठनों ने पीएम केयर्स में दान देने का संकल्प लिया

भाषा
Updated: March 29, 2020, 11:53 PM IST
राष्ट्रपति से लेकर मंत्रियों और संगठनों ने पीएम केयर्स में दान देने का संकल्प लिया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 के कारण लागू लॉकडाउन में दिल्ली में BJP के वयोवृद्ध नेताओं को फोन कर उनका हालचाल पूछा. (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ भारत की लड़ाई में योगदान देने के लिए इन सबके प्रति आभार जताया.

  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, केंद्रीय मंत्रियों, मंत्रियों, सरकारी संगठनों, निजी संस्थाओं और व्यक्तियों, राजनीतिक नेताओं, फिल्म जगत की हस्तियों से लेकर उद्योग जगत के दिग्गजों ने नव निर्मित ‘‘पीएम केयर्स’’ कोष में रविवार को योगदान दिया या योगदान देने का संकल्प लिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के खिलाफ भारत की लड़ाई में योगदान देने के लिए इन सबके प्रति आभार जताया.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कोविड-19 के संकट से निकलने में राष्ट्र की मदद के वास्ते इस कोष में अपनी एक महीने की तनख्वाह देने का संकल्प लिया और देशवासियों से इसमें उदारता से दान करने की अपील की है. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि देश का सबसे बड़ा, सार्वजनिक क्षेत्र का नियोक्ता रेलवे इस कोष में 151 करोड़ रुपये का योगदान देगा जो 13 लाख कर्मचारियों का एक दिन का वेतन है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी अपनी एक महीने की तनख्वाह दान करने की घोषणा की. साथ में, उन्होंने यह भी बताया कि सेना, नौसेना और वायु सेना के कर्मी तथा मंत्रालय के कर्मचारियों ने एक दिन का वेतन दान करने का फैसला किया है जो 500 करोड़ रुपये होता है.



कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए केंद्र सरकार ने “प्रधानमंत्री नागरिक सहायता एवं आपात स्थिति राहत कोष” (पीएम केयर्स) नाम से एक सार्वजनिक चैरिटेबल ट्रस्ट बनाया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं और इसके सदस्य रक्षा मंत्री, गृह मंत्री और वित्त मंत्री हैं.



केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, धर्मेंद्र प्रधान और प्रकाश जावड़ेकर समेत अन्य ने भी इसी तरह की घोषणाएं कीं. खेल मंत्री किरण रिजिजू, श्रम मंत्री संतोष गंगवार और विधि मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने भी एक माह का वेतन दान किया.

अरबपति गौतम अडाणी ने अपने समूह की परोपकार निधि से 100 करोड़ रुपये दान देने का ऐलान किया. टाटा संस और टाटा ट्रस्ट ने 1500 करोड़ रुपये देने का संकल्प लिया है जबकि रियालंस इंडस्ट्री ने पांच करोड़ रुपये का शुरुआती योगदान दिया है और मुंबई में भारत का पहला कोविड-19 अस्पताल खोलने का ऐलान किया है.

जेएसडब्ल्यू ने कहा कि वह इस कोष में 100 करोड़ रुपये का योगदान देगा. सज्जन जिंदल की अगुवाई वाले समूह ने कहा कि वह स्वास्थ्य कर्मियों को उपकरण उपलब्ध कराएगा और उसके कर्मचारी एक दिन का वेतन दान करेंगे.

कोटक महिंद्रा बैंक और इसके प्रबंध निदेशक उदय कोटक ने 60 करोड़ रुपये दान देने की घोषणा की. बैंक 25 करोड़ रुपये पीएम केयर्स में देगा और 10 करोड़ रुपये महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री राहत कोष में दान दिए जाएंगे. प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘मुझे अपने उद्योगपतियों पर गर्व है जो स्वस्थ भारत की दिशा में योगदान दे रहे हैं.’’

सत्तारूढ़ पार्टी ने ऐलान किया कि उसके सभी सांसद एक महीने की तनख्वाह दान करेंगे. मामले की जानकारी रखने वाले एक शख्स ने बताया कि इस कोष को बनाने की मोदी की घोषणा के बाद, पार्टी नेताओं का सारा योगदान इसी मद में जाने की संभावना है.

पार्टी ने अपने 303 लोकसभा सांसदों और 83 राज्यसभा सांसदों से कहा कि वे सांसद निधि से एक करोड़ रुपये इस वायरस का मुकाबला करने के लिए आवंटित करें. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि वह पीएम केयर्स कोष में एक करोड़ रुपये का दान देंगे. इतनी ही राशि पुणे प्रशासन भी देगा.

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने पीएम केयर्स कोष में 21 लाख रुपये दान दिए हैं. सीबीएसई का कहना है कि यह रकम उसने अपने कर्मचारियों से जमा की है जिन्होंने स्वेच्छा से योगदान दिया है.

सीबीएसई ने एक बयान में कहा कि समूह ए के कर्मियों ने दो दिन का वेतन दान दिया है, जबकि समूह बी और सी के कर्मचारियों ने एक दिन की तनख्वाह दी है. गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया कि केंद्रीय सशस्त्र बलों ने इस कोष में 116 करोड़ रुपये का योगदान दिया है. यह कर्मियों का एक दिन का वेतन है.

अलग अलग मंत्रालयों ने कहा कि कर्मचारियों का योगदान स्वैच्छिक है. उपराष्ट्रपति एस वेकैंया नायडू और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने भी एक महीने की तनख्वाह दान की है. राष्ट्रपति कोविंद के, एक महीने का वेतन दान करने के संकल्प के बाद, मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘ माननीय राष्ट्रपति जी, आपको धन्यवाद. राष्ट्रपति जी राष्ट्र की अगुवाई कर रहे हैं और उसे प्रेरित कर रहे हैं. ’’

कोष में योगदान करने के अपने निर्णय को पोस्ट करने के बाद प्रधानमंत्री ने लोगों और संगठनों का धन्यवाद किया और प्रशंसा की. इसके अलावा फिल्म जगत की कई हस्तियों ने भी इस कोष में दान दिया है या योगदान देने का संकल्प लिया है.

फिल्म स्टूडियो टी-सीरीज़ के प्रमुख भूषण कुमार ने पीएम-केयर्स कोष में 11 करोड़ रुपये दान करने की बात कही है. कुमार ने महाराष्ट्र मुख्यमंत्री राहत कोष में भी एक करोड़ रुपये दान देने का संकल्प लिया.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री दफ्तर के ट्वीट को सोनम कपूर ने साझा करते हुए लिखा, यह एक बेहतरीन पहल है और मैं दान दूंगी. कई टीवी कार्यक्रमों के प्रस्तोता एवं अभिनेता मनीष पॉल ने कहा कि वह पीएम केयर्स कोष में 20 लाख रुपये का दान देंगे. “कबीर सिंह” के निर्माता मुराद खेतानी ने कहा कि वह कोष में 25 लाख रुपये का योगदान देंगे.

इससे पहले शनिवार को बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने “प्रधानमंत्री नागरिक सहायता एवं आपात स्थिति राहत कोष” (पीएम केयर्स) में 25 करोड़ रुपये देने की बात कही थी. उनके अलावा अभिनेता वरूण धवन, फिल्म निर्माता करण जौहर, रितिक रोशन, कपिल शर्मा, दक्षिण के अभिनेता महेश बाबू समेत कई हस्तियां दान देने के लिए आगे आई हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 29, 2020, 11:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading