जम्‍मू-कश्‍मीर से Article-370 हटने के बाद Pok से भी उठी भारत में शामिल करने की मांग

 गिलगिट-बाल्टिस्तान (Gilgit-Baltistan) के लोगों का कहना है कि उन्हें भारत के संविधान पर पूरा भरोसा है. लिहाजा, गिलगिट-बाल्टिस्तान के लोग भारत के साथ जुड़ना चाहते हैं. उन्होंने भारतीय संविधान में अपना प्रतिनिधित्व मांगा है.

News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 10:08 PM IST
जम्‍मू-कश्‍मीर से Article-370 हटने के बाद Pok से भी उठी भारत में शामिल करने की मांग
 गिलगिट-बाल्टिस्तान (Gilgit-Baltistan) के लोगों का कहना है कि उन्हें भारत के संविधान पर पूरा भरोसा है. लिहाजा, गिलगिट-बाल्टिस्तान के लोग भारत के साथ जुड़ना चाहते हैं. उन्होंने भारतीय संविधान में अपना प्रतिनिधित्व मांगा है.
News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 10:08 PM IST
जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से अनुच्‍छेद-370 (Article-370) खत्म कर सूबे को दो केंद्रशासित राज्‍यों में बांटने का विधेयक राज्‍यसभा (Rajya Sabha) और लोकसभा (Lok Sabha) से पारित होने के बाद अब पाक अधिकृत कश्‍मीर (Pok) से भी भारत में शामिल किए जाने की मांग उठ रही है. गिलगिट-बाल्टिस्तान (Gilgit-Baltistan) के लोगों का कहना है कि उन्हें भारत के संविधान पर पूरा भरोसा है. लिहाजा, क्षेत्र के लोग भारत के साथ जुड़ना चाहते हैं. उन्होंने भारतीय संविधान में अपना प्रतिनिधित्व मांगा है.

मांग उठने पर पाकिस्‍तान की सरकार मुश्किल में आई 

गिलगिट-बाल्टिस्तान (Gilgit-Baltistan) से इस तरह की आवाज उठने पर पाकिस्तान (Pakistan) की इमरान खान (Imran Khan) सरकार मुश्किल में पड़ गई है. फिलहाल इस हिस्से पर भी पाकिस्तान ने अनाधिकृत तौर पर कब्‍जा कर रखा है. भारत की संसद में अनुच्‍छेद-370 (Article-370) को लेकर चल रही चर्चा पर गिलगिट-बाल्टिस्तान के लोगों की भी पैनी नजर रही. क्षेत्र के लोगों की प्रतिक्रियाएं भारत के गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के तर्कों के साथ मुखर होती जा रही थीं.

सेंग एच. सेरिंग ने कहा, हम लद्दाख का विस्‍तार ही हैं

गिलगिट के लोगों के अधिकारों की लड़ाई लड़ रहे सेंग एच. सेरिंग ने गृह मंत्री अमित शाह से कहा है कि क्षेत्र के लोग भारत के साथ जुड़ना चाहते हैं. साथ ही मांग की है कि उन्हें भी भारतीय संविधान में प्रतिनिधित्व दिया जाए. सेरिंग ने कहा, 'गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि पाक अधिकृत कश्‍मीर (Pok) जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) का अभिन्न हिस्सा है. हम मानते हैं कि गिलगिट-बाल्टिस्तान भी भारत का अभिन्न हिस्सा है. गिलगिट-बाल्टिस्तान लद्दाख का विस्तार है. हम भारतीय संघ और संविधान के तहत अपने लिए अधिकार की मांग करते हैं.'

भारत की विधायी इकाई में प्रतिनिधित्व की मांग की

सेरिंग ने कहा कि हम भारत की विधायी इकाई में अपना प्रतिनिधित्व मांगते हैं‌. जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) को बांटकर बनाए गए दोनों केंद्रशासित प्रदेशों में रिजर्व सीटों पर गिलगिट-बाल्टिस्तान (Gilgit-Baltistan) के लिए सीटें होनी चाहिए. हमारा मानना है कि भारत की राज्यसभा और लोकसभा में हमारा प्रतिनिधित्व होना चाहिए. हम भारत का अभिन्न हिस्सा हैं. लोकसभा में चर्चा के दौरान अनुच्‍छेद-370 (Article-370) पर मोदी सरकार के फैसले का विरोध कर रहे विपक्षी नेताओं ने पीओके का मुद्दा उठाया‌‌. इस पर शाह ने कहा कि जब मैं जम्मू-कश्मीर की बात करता हूं तो उसका मतलब पाक अधिकृत कश्‍मीर (PoK) से भी होता है. हम पीओके वापस लेने के लिए जान दे देंगे.

ये भी पढ़ें: 

इमरान खान की गीदड़ भभकी, अनुच्‍छेद-370 हटाने के फैसले के कारण भारत में होंगी पुलवामा जैसी घटनाएं

कश्मीर में आर्टिकल 370 और 35A हटाने से पहले मोदी सरकार ने दिए थे 5 अहम संकेत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 6, 2019, 7:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...