लाइव टीवी

गुजरात में Pepsico बनाम किसान: आलू किसानों के समर्थन में आई सरकार

News18Hindi
Updated: April 28, 2019, 12:40 PM IST
गुजरात में Pepsico बनाम किसान: आलू किसानों के समर्थन में आई सरकार
फाइल फोटो- Reuters

मामले में सक्रिय किसान समूह ने मांग की है कि केंद्र सरकार किसानों के कानूनी खर्चों का वहन करे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2019, 12:40 PM IST
  • Share this:
अमेरिकी कंपनी पेप्सिको की ओर से किसानों के खिलाफ मामला दर्ज कराए जाने के बाद गुजरात सरकार ने कहा है वह किसानों के समर्थन में है. दरअसल, पेप्सिको के अनुसार पौध विविधता एवं किसान अधिकार संरक्षण अधिनियम, 2001 के तहत आलू की किस्मों पर पौध विविधता संरक्षण अधिकार मिला हुआ है और किसान बीज की किस्मों पर उसके अधिकारों का उल्लंघन कर आलू की खेती कर रहे थे.

इसी के तहत पेप्सिको ने किसानों पर 4.2 करोड़ रुपये का मामला दर्ज किया है. पेप्सिको का आरोप है कि किसान उसकी ओर से रजिस्टर्ज आलू के एक किस्म की अवैध खेती कर रहे हैं, जिसके चलते उसके मुकदमा दर्ज किया है.  कंपनी इस किस्म के आलू से अपने चिप्स के ब्रांड लेज का निर्माण करती है.

यह भी पढ़ें:  PM-KISAN: प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम का पैसा नहीं मिला तो इस हेल्पलाइन की ले सकते हैं मदद!

अंग्रेजी अखबार द हिन्दू की एक रिपोर्ट के अनुसार सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि किसानों की ओर से कानूनी मामले में दखल देगी. सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि किसानों की मदद के लिए हम इस मामले में शामिल होंगे.



यह भी पढ़ें: गुजरात के किसानों को राहत, Pepsico ने कहा- समझौते को तैयार

इससे पहले कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा था कि, 'सरकार अपनी आंखें बंद नहीं कर सकती.' गुजरात सरकार के अधिकारी ने कहा कि किसानों के हित का बचाव करने के लिए उच्च स्तर से यह फैसला लिया गया है. गुजरात में 1.21 लाख हेक्टेयर में 33 लाख टन आलू का उत्पादन किया जाता है.

यह भी पढ़ें:  गुजरात के किसानों पर Pepsi Co. ने किया केस, मांगा एक करोड़ का हर्जाना

बता दें अहमदाबाद में वाणिज्यिक अदालत ने छबीलभाई पटेल, विनोद पटेल और हरिभाई पटेल को निर्देश दिया था कि वे मामले की अगली सुनवाई तक यानी 26 अप्रैल तक आलू को उगाना और बेचना बंद कर दें.  अदालत ने कंपनी से उसके अधिकारों के उल्लंघन के दावे पर तीनों तीनों किसानों से प्रतिक्रिया भी मांगी गई थी.

26 अप्रैल को हुई सुनवाई में पेप्सिको ने किसानों को इस मामले में समझौते का प्रस्ताव दिया है. पेप्सिको की भारत इकाई का दावा है कि ‘ साल 2016 में उसने आलू की किस्म पर देश में विशेष अधिकार पाया था.' इस मामले में सक्रिय किसान समूह ने मांग की है कि केंद्र सरकार किसानों के कानूनी खर्चों का वहन करे.

24 अप्रैल को खबर आई थी कि पेप्सिको ने प्रदेश के नौ किसानों पर मामला दर्ज करवा दिया है. कंपनी ने हर किसान से एक करोड़ रुपये का हर्जाना मांगा है. यह सभी नौ किसान साबरकांठा और अरवल्ली जिले के हैं और सभी के पास तीन से चार एकड़ भूमि है.

यह भी पढ़ें:  17 गांवों के किसान हुए एकजुट, सरकार और बीजेपी नेताओं के लिए दिया ये अल्टीमेटम

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Gujarat से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 28, 2019, 12:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर