Home /News /nation /

पर्सनल लॉ बोर्ड की मुसलमानों से अपील, शादी में दहेज नहीं लड़कियों को प्रॉपर्टी में दें हिस्‍सा

पर्सनल लॉ बोर्ड की मुसलमानों से अपील, शादी में दहेज नहीं लड़कियों को प्रॉपर्टी में दें हिस्‍सा

पर्सनल लॉ बोर्ड की मुसलमानों से अपील, शादी में दहेज नहीं लड़कियों को प्रॉपर्टी में दें हिस्‍सा

पर्सनल लॉ बोर्ड की मुसलमानों से अपील, शादी में दहेज नहीं लड़कियों को प्रॉपर्टी में दें हिस्‍सा

बैठक के दौरान ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (All India Muslim Personal Law Board) के अध्‍यक्ष मौलाना राबे हसनी नदवी ने कहा कि मुझे बहुत अफसोस होता है कि मुसलमानों (Muslims) ने इस्‍लाम धर्म (Islam Religion) को केवल नमाज तक ही सीमित कर दिया है.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्‍ली. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (All India Muslim Personal Law Board) की इस्लाहे मुआशरा (समाज सुधार) कमेटी की मंगलवार को हुई अहम बैठक में कई मसलों पर चर्चा की गई. बैठक के दौरान बोर्ड के अध्‍यक्ष मौलाना राबे हसनी नदवी ने कहा कि मुझे बहुत अफसोस होता है कि मुसलमानों (Muslims) ने इस्‍लाम धर्म (Islam Religion) को केवल नमाज तक ही सीमित कर दिया है. पिछले कई सालों से सामाजिक मामलों की उपेक्षा की जा रही है और इस ओर किसी का भी ध्‍यान नहीं है. उन्‍होंने कहा कि शादियों में दहेज देने के बजाए लड़कियों को प्रॉप‍र्टी में उनका असल हक दिए जाने की जरूरत है.

    भारत में शादियों में दहेज लेने और देने पर हमेशा से पाबंदी रही है. इसके बावजूद शादियों में काफी दहेज चलता है. इस्‍लाम में दहेज लेने और देने दोनों पर मनाही है. यहां तक कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड भी कई बार दहेज को गैर-इस्लामिक करार दे चुका है. इसके बाजवूद शादियों में अभी भी दहेज लिया और दिया जा रहा है. नदवी ने कहा कि इस्‍लाम धर्म जीवन के सभी क्षेत्रों में हमारा मार्गदर्शन करता है, इसलिए मुसलमानों को हर क्षेत्र में हलाल और हराम का ध्यान रखना चाहिए. उन्‍होंने कहा कि इस्‍लाम को केवल नमाज तक ही सीमित नहीं रहना चाहिए.

    इसे भी पढ़ें :- अफगानिस्‍तान: क्‍या है शरिया कानून, जिसके दायरे में तालिबान महिलाओं को देगा हक

    उन्‍होंने कहा कि शादी में दहेज के बजाए जायदाद में लड़की को उसका हक दिया जाना चाहिए. शादी के दौरान इस्लामी दिशा-निर्देशों का पालन किया जाना चाहिए ताकि कोई मुस्लिम लड़की अपने घर में अविवाहित न बैठे. इसके लिए सबसे जरूरी है कि बिना किसी दहेज के निकाह हो. मौलाना खालिद सैफल्‍ला रहमानी ने कहा कि मौलाना वली रहमानी की देखरेख में देशभर में एक आसान विवाह अभियान शुरू किया गया था. उस दौरान मौलाना वली रहमानी की देखरेख में दर्जनों शादियां सादगी से की गईं थीं. उन्‍होंने कहा कि हम चाहते हैं कि आसान निकाह अभियान से ज्‍यादा से ज्‍यादा मुस्लिम लड़कों को जुड़ना चाहिए, जिससे शादियों को दहेज से मुक्‍त कर देना चाहिए.

    इसे भी पढ़ें :- मुस्लिम बोर्ड ने तालिबान के कब्जे को बताया जायज, कहा-आपको हिंदुस्तानी मुसलमान का सलाम

    महिलाओं को शिक्षा देने के लिए महिला समिति बने
    जमात-ए-इस्लामी के प्रमुख सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने कहा कि अगर समाज से दहेज को पूरी तरह से खत्‍म करना है तो महिलाओं का भी शिक्षित होना बेहद जरूरी है. महिलाओं को शिक्षित किए बिना समाज में इतना बड़ा बदलाव लाना संभव नहीं है. उन्‍होंने कहा कि अब समय आ गया है कि महिलाओं को शिक्षित करने के लिए एक महिला समिति का गठन किया जाए.

    Tags: Muslim, Muslim Girls, Muslim society

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर