CJI गोगोई मामले में याचिका दाखिल, कोर्ट से मीडिया कवरेज पर रोक लगाने की मांग

CJI रंजन गोगोई (फ़ाइल फोटो)
CJI रंजन गोगोई (फ़ाइल फोटो)

याचिका में सीजेआई रंजन गोगोई से जुड़ी किसी भी जानकारी को प्रकाशित करने पर रोक लगाने की मांग की गई है. मामले पर 29 अप्रैल को सुनवाई होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2019, 5:31 PM IST
  • Share this:
चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई पर लगे यौन शोषण के आरोप से जुड़ी खबर प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया समेत ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर प्रकाशित करने पर रोक लगाने को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई है. याचिका में सीजेआई रंजन गोगोई से जुड़ी किसी भी जानकारी को प्रकाशित करने पर रोक लगाने की मांग की गई है. मामले पर 29 अप्रैल को सुनवाई होगी.

एनजीओ एंटी करप्शन काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा दायर की गई याचिका में कहा गया है कि इस तरह से खबरें सीधे तौर पर भारतीय न्यायिक प्रक्रिया पर असर डाल रही हैं. याचिका में लॉ मिनिस्ट्री, सूचना और प्रसारण मंत्रालय, दिल्ली सरकार, प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया, ऑपरेशनल हेड वाट्सएप और ऑपरेशनल हेड गूगल को पक्षकार बनाया गया है.

इसे भी पढ़ें :- CJI गोगोई यौन उत्पीड़न: जस्टिस रमन्ना की जगह इंदू मल्होत्रा जांच समिति में शामिल



गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच के लिए गठित तीन सदस्यीय जांच समिति में जस्टिस इंदू मल्होत्रा को शामिल किया गया है. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने इस इस मामले में विभागीय जांच के आदेश देते हुए तीन सिटिंग जज- जस्टिस एसए बोबड़े, एनवी रमन्ना और इंदिरा बनर्जी की समिति का गठन किया था लेकिन जस्टिस एनवी रमन्ना ने जांच में शामिल होने से इंकार कर दिया है. साजिश के दावों से जुड़े मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है. कोर्ट ने साफ़ कहा कि देश की शीर्ष अदालत कुछ ताकतवर और पैसे वाले लोगों की मर्जी से काम नहीं कर सकती. कोर्ट ने चिंता जाहिर की है कि बीते 3-4 सालों से लगातार सुप्रीम कोर्ट को निशाना बनाया जा रहा है.
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज