सु्प्रीम कोर्ट में सोनिया, राहुल गांधी और कांग्रेस के खिलाफ याचिका, चीन की सत्ताधारी पार्टी से समझौते की मांगी जानकारी

सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ याचिका. (PIC- File PTI)
सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ याचिका. (PIC- File PTI)

याचिका में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से मांग की गई है कि वो राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) या सीबीआई से इस मामले की जांच कराने के संबंध में आदेश या निर्देश जारी करे.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. चीन (China) से गतिरोध के बीच सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में कांग्रेस (Congress) की अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi), पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और कांग्रेस पार्टी के खिलाफ एक याचिका दायर की गई है. एक वकील की ओर से दायर इस याचिका में 2008 में यूपीए सरकार (UPA Government) और चीन सरकार (China Government) के बीच हुए समझौते के संबंध में जानकारी मांगी गई है. साथ ही सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई है कि वो राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) या सीबीआई से इस मामले की जांच गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 1967 के तहत कराने के संबंध में आदेश या निर्देश जारी करे.

याचिका में कांग्रेस और चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी ऑफ चाइना के बीच 2008 में हुए करार के संबंध में जानकारी देने की मांग की गई है. इस करार के तहत दोनों के बीच हाई लेवल जानकारी का आदान प्रदान और सहयोग शामिल है. याचिका में कहा गया है कि याचिकाकर्ता का मानना है कि देश की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं होना चाहिए. इसलिए भारतीय संविधान के आर्टिकल 32 के अंतर्गत यह याचिका दायर कर कांग्रेस और कम्‍युनिस्‍ट पार्टी ऑफ चाइना के बीच समझौते से संबंधित पारदर्शिता और स्‍पष्‍टीकरण की मांग की गई है.

 





याचिका में कहा गया है कि यूपीए और कम्‍युनिस्‍ट पार्टी ऑफ चाइना के बीच समझौते में दोनों पक्षों के बीच अहम द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्‍ट्रीय मुद्दों पर विचार करने पर सहमति बनी है. याचिका में कहा गया है कि कई मीडिया हाउस की ऐसी रिपोर्ट हैं कि 2008 से लेकर 2013 के बीच चीन की ओर से करीब 600 बार घुसपैठ की कोशिश या विवाद का प्रयास हुआ है. उस दौरान यूपीए सरकार सत्‍ता में थी. यह रिकॉर्ड का मामला है कि 2008 में चीन और कांग्रेस के बीच हुआ समझौता पार्टियों के बीच हुआ समझौता था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज