संसदीय समिति में उठा महंगे पेट्रोल-डीजल का मुद्दा, पक्ष-विपक्ष के सांसदों में वार-पलटवार

पेट्रोल डीजल ने बढ़ाई आम आदमी की परेशानी. फाइल फोटो

Ministry of Petroleum and Natural Gas: विपक्षी सांसदों के आरोप पर बीजेपी के सदस्यों ने कहा कि विपक्षी सांसद अपने शासन वाले राज्यों के सीएम को पत्र लिखे और पेट्रोल/डीजल पर टैक्स कम करने को कहे.

  • Share this:
नई दिल्ली. पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि का मामला गुरुवार को पेट्रोलियम मंत्रालय से संबंधित संसदीय स्थायी समिति में उठा. समिति में विपक्ष के सांसदों ने इस मसले पर केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश की. पक्ष और विपक्ष के सांसदों के बीच जोरदार भिड़ंत देखने को मिली. बैठक में विपक्ष के सांसदों ने कहा कि देश पहले से मंहगाई का सामना कर रहा है और पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से लोगों का जीना दूभर हो रहा है.

विपक्षी सांसदों ने कहा कि कोविड की वजह से लोगों को बेरोजगारी जैसी मुसीबतों से दो चार होना पड़ रहा है, ऐसे में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से लोग परेशान हो गए हैं. देश के कई शहरों में पेट्रोल की कीमत 100 का आंकड़ा पार कर चुकी है. विपक्षी सदस्यों ने बैठक में मांग करते हुए कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाया जाए.

विपक्षी सांसदों के आरोप पर बीजेपी के सदस्यों ने कहा कि विपक्षी सांसद अपने शासन वाले राज्यों के सीएम को पत्र लिखें और पेट्रोल/डीजल पर टैक्स कम करने को कहें. बैठक में सत्ता पक्ष के सदस्यों ने विपक्षी सांसदों को ये भी तर्क दिया कि यूपीए सरकार में 2004 से 2014 (मोदी सरकार आने तक) के बीच पेट्रोल डीजल की कीमतें लगभग डबल हो गई थी, जबकि मोदी सरकार आने के बाद जो डेढ़ गुना टैक्स बढ़ा है, वो राज्य सरकारों ने बढ़ाया है.

दरअसल बीजेपी सांसद रमेश विधूड़ी की अध्यक्षता में गुरुवार को पेट्रोलियम मामलों की स्टैंडिंग कमेटी की बैठक हुई. इस बैठक में सरकारी तेल कंपनियों इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड के सीनियर अधिकारी भी शामिल हुए.

100 रुपये के पार पहुंचा पेट्रोल और डीजल
कच्चे तेल की कीमतों में उछाल और तेल पर बढ़े हुए टैक्स की वजह से देश के कई हिस्सों में पेट्रोल 100 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच गया है. देश के कुछ हिस्सों में डीजल भी 100 रुपये के पार पहुंच चुका है. फिलहाल कच्चा तेल 70 डॉलर प्रति बैरल के पार है, वहीं रिटेल कीमतों में टैक्स और अन्य शुल्क का हिस्सा काफी ज्यादा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.