• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • दूसरी लहर में तीसरे चरण का ट्रायल करते तो फाइजर, मॉडर्ना के टीकों को मंजूरी नहीं मिलती: कृष्ण एला

दूसरी लहर में तीसरे चरण का ट्रायल करते तो फाइजर, मॉडर्ना के टीकों को मंजूरी नहीं मिलती: कृष्ण एला

अगर फाइजर और मॉडर्ना कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान अपने टीकों के तीसरे चरण का क्लीनिकल परीक्षण करतीं तो उनके टीकों को मंजूरी नहीं मिलती. (AP Photo/Jae C. Hong)

अगर फाइजर और मॉडर्ना कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान अपने टीकों के तीसरे चरण का क्लीनिकल परीक्षण करतीं तो उनके टीकों को मंजूरी नहीं मिलती. (AP Photo/Jae C. Hong)

Covid Vaccination: हैदराबाद स्थित कोविड​​​​-19 टीका (Covid-19 Vaccine) निर्माता कंपनी भारत बायोटेक ने कहा कि उसके टीके की सटीकता वायरस के मूल स्वरूप के खिलाफ 85 प्रतिशत रही होगी – जो पहली बार चीन में मिला था.

  • Share this:

    नई दिल्ली. भारत बायोटेक (Bharat Biotech) के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कृष्ण एला ने बुधवार को कहा कि अगर अमेरिका की दिग्गज कंपनियां फाइजर (Pfizer) और मॉडर्ना (Moderna) कोरोना वायरस की दूसरी लहर (Coronavirus Second Wave) के दौरान अपने टीकों के तीसरे चरण का क्लीनिकल परीक्षण करतीं तो उनके टीकों को मंजूरी नहीं मिलती. हैदराबाद स्थित कोविड​​​​-19 टीका (Covid-19 Vaccine) निर्माता कंपनी भारत बायोटेक ने कहा कि उसके टीके की सटीकता वायरस के मूल स्वरूप के खिलाफ 85 प्रतिशत रही होगी – जो पहली बार चीन में मिला था.

    एला ने विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के तहत आने वाले निकाय प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड (टीडीबी) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘मैं आपसे ईमानदारी से कह रहा हूं. अगर फाइजर और मॉडर्ना ने दूसरी लहर के दौरान तीसरे चरण का क्लीनिकल परीक्षण किया होता, तो उन्हें उनके उत्पादों के लिए लाइसेंस नहीं मिला होता.”

    ये भी पढ़ें- क्या कोरोना की तीसरी लहर है मथुरा-फिरोजाबाद में बच्चों की मौत? जानिए Experts की राय

    इजरायल में 35 फीसदी ही प्रभावी है फाइजर
    उन्होंने कहा, “जब उन्हें (फाइजर और मॉडर्ना) लाइसेंस मिला, उस समय वायरस का वुहान स्वरूप (सबसे ज्यादा फैला हुआ) था. इसलिए वे 90 प्रतिशत सटीकता हासिल करने में सफल रहे, लेकिन अब वही टीका इजराइल में 35 प्रतिशत प्रभावशीलता दिखा रहा है.”

    एला ने कहा, ’… और कोवैक्सीन एकमात्र टीका है… नियामक प्रक्रिया में देरी हुई और हम दूसरी लहर में फंस गए. (हम) भाग्यशाली थे कि दूसरी लहर में हमारी प्रभावशीलता लगभग 77 प्रतिशत रही. लेकिन अगर वायरस का वुहान स्वरूप होता और डेल्टा नहीं होता तो यह प्रभावशीलता 85 प्रतिशत होती.’’

    (Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज